सफलता पाने के लिए सबसे जरूरी क्या है

सुना है की केवल पॉजिटिव सोच से सक्सेस पा सकते है पर ऐसा नहीं है बहुत से लोग ऐसे है जिनकी सोच सकारात्मक है लेकिन फिर भी उन्हें कामयाबी नहीं मिली है. कुछ है जो सफलता पाने के लिए सबसे जरुरी है इस पोस्ट में मैं आपको यही बता रहा हूं की सफलता पाने के लिए सबसे जरूरी क्या हैं।

सफलता पाने के लिए क्या जरूरी है

एक 14 साल का लड़का अपने पिता के साथ ट्रेन से घर जा रहा था वो लड़का बार - बार ट्रेन की खिड़की से बाहर देख रहा था वो अपने पापा से कह रहा था पापा बाहर देखो पहाड़ हमारे साथ चल रहे है पास में हस्बैंड और वाइफ बैठे थे जो उस लड़के को देख रहे थे।

थोड़ी देर बाद वो लड़का फिर से अपने पापा को बोलता है पापा बाहर बारिश हो रही है देखो कितना अच्छा लग रहा है वो husband और wife जो पास में बैठे थे वो आखिर में उसके पिता को बोलते है आप अपने बच्चे को मेंटल होस्पिटल क्यों नहीं ले जाते, इसको किसी मेंटल डॉक्टर की जरुरत हैं 14 साल की उम्र में भी ऐसी हरकतें कर रहा हैं।

सफलता पाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी क्या है

उस बच्चे के बाप ने जवाब दिया इसको किसी मेंटल डॉक्टर की जरुरत नहीं है मेरे बेटे का आज आंख का ऑपरेशन हुआ है और पूरी 14 साल की जिंदगी में, पूरी लाइफ में ये दुनिया की इस खूबसूरती को पहली बार देख रहा है. यह सुनकर वो हस्बैंड और वाइफ चुप हो जाते हैं और उनको अपने प्रश्न पूछने का प्रस्ताव होता हैं।

इस कहानी से वैसे तो यह सीखने को मिलता है की हमें किसी की लाइफ को जज नहीं चाहिए क्योंकि किस की लाइफ में क्या चल रहा है ये हम नहीं जानते लेकिन जो सबसे जरुरी बात है जिसे अगर आप ध्यान से समझो तो शायद ये आपकी जिंदगी बदल सकती हैं।

वो बच्चा जो बारिश को देख रहा था और पहाड़ को देख रहा था क्या लगता है उसके ध्यान में 1% भी कोई दूसरा विचार चल रहा था क्या उसका ध्यान भटक रहा था वो जो देख रहा था वो सब 100% focus के साथ देख रहा था वो इसलिए देख रहा था क्योंकि उसके लिए सब चीज नई थी।

और हमारे लिए वो पुरानी हो गई जबकि वास्तव में पुरानी नहीं है क्योंकि अगर हम ध्यान दे और देखें तो जिंदगी का हर एक पल, हर एक दिन नई शुरूआत है. अगर आप दुनिया की हर जगह को ध्यान से देखोगे तो आपको हर बार कुछ ना कुछ तो नया दिखेगा।

अगर आपको अपनी लाइफ में सक्सेस होना है बहुत ज्यादा सक्सेस तो आपको भी बहुत ज्यादा ध्यान की जरुरत है जितने भी फेमस लोगों के बारे में आपने सुना है स्टीव जॉब्स, बिलगेट्स, मार्क जकरबर्ग इन सब में और आपमें कोई फर्क नहीं है।

दुनिया के 77% अरबपति खुद के दम पर बने है स्वनिर्मित है तो आप भी बन सकते है लेकिन यह इतना आसान नहीं है जितना लोग बताते है जैसे आपको sucess होना है तो सकारात्मक सोचना होगा, विश्वास रखना होगा और उसे चाहना होगा।

जैसे एक डायलाग है "किसी चीज को सच्चे दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे आपसे मिलाने लग जाती है" जबकि यह बिलकुल भी सच नहीं है ऐसे ना जाने कितने लोग होंगे जो अच्छा सोचते है उनकी सोच भी अच्छी है और उनको विश्वास है की मैं ये बन सकता हूँ, मैं ये कर सकता हूँ, इसे मैं पा सकता हूँ।

लेकिन एक चीज है जो वो नहीं करते है और वही उनकी समस्या का कारण है "वे हर रोज लगातार मेहनत नहीं करते" लगातार एक्शन नहीं लेते और वो भी पुरे ध्यान के साथ में. जिस तरीके से वो बच्चा बारिश को पुरे ध्यान से एन्जॉय कर रहा था।

सकारात्मक सोचना, अच्छा सोचना, इच्छाएं रखना, सपने देखना, ख्वाब रखना सब जरूरी है लेकिन इसका अगला कदम है "पुरे ध्यान के साथ में एक्शन लेना" ज्यादातर लोग किसी भी कामयाब इंसान के पैसे, लेवल्स, नाम, उसने जो पाया है या जो वो बन गया है उसी को देखते है और कहते है की "मैं उनकी तरह कभी नहीं बन सकता" उसकी किस्मत अच्छी थी।

लेकिन बहुत कम लोग यह देखते है की कामयाब लोगों ने यह पाने के लिए या फिर कामयाब बनने के लिए कितना बुरा समय देखा होगा, कितनी बार वो फेल हुए होंगे, उन्होनें भी कभी पैसों की कमी देखी होगी, उनके बैंक बैलेंस भी कभी 0 रहे होंगे, उनकी जिंदगी में भी कभी बहुत ज्यादा दुःख आये होंगे।

लेकिन फिर भी वो हर रोज एक्शन लेते है और हर रोज मेहनत करते थे, अपना ध्यान सिर्फ कामयाब होने पर लगाते थे ना की सिर्फ प्रॉब्लम को लेकर रोते थे और तब जाकर वे successful बनते है जिन्हें लोग कहते है की इनकी किस्मत अच्छी थी।

लगातार मेहनत का मैं एक बहुत अच्छा उदाहरण देने वाला हूँ. थॉमस अल्वा एडिसन ने बल्ब का अविष्कार किया था तब 999 बार try किया गया था यानि 999 बार फेल हुए थे, 999 बार मेहनत करने के बाद उन्होंने बल्ब का अविष्कार किया था. अगर इन्होने केवल पॉजिटिव सोचा होता और कुछ भी एक्शन नहीं लिया होता तो अविष्कार नहीं होता।

अविष्कार होने की वजह थी उनका पूरा ध्यान वहां था और लगातार एक्शन लिए जा रहे थे. पॉजिटिव वो भी सोच रहे थे, सपने वो भी देख रहे थे, ख्वाब इच्छाएं वो भी रख रहे थे लेकिन साथ में एक्शन भी ले रहे थे वो भी पुरे ध्यान के साथ में।

आपको एक आसान उदाहरण देता हूँ मुझे उम्मीद है की आपको इस बात पर विश्वास हो जाएगा की एक्शन लेने के साथ में ध्यान लगाना बहुत जरूरी है आपने अक्सर देखा होगा कोई क्लास में होशियार होता है जो क्लास में फर्स्ट आता है वो भी उसी क्लास में होता है जिस क्लास में बाकि के students होते है वो भी उसी जगह एक्स्ट्रा क्लास जाता जहां बाकि के स्टूडेंट्स जाते है।

वो भी स्कुल में या फिर एक्स्ट्रा क्लास में उतने ही घंटें पढ़ता है जितने घंटें बाकि के स्टूडेंट्स पढ़ते है लेकिन क्या कारण है की कोई स्टुडेंट क्लास में सेकंड या थर्ड आ रहा है मेहनत तो वो भी कर रहे है और टाइम तो वो भी दे रहे है मतलब लगातार एक्शन वो भी ले रहे है और मेहनत वो भी कर रहे है लेकिन फर्स्ट आने वाले की वजह क्या हैं।

उस फर्स्ट आने वाले की वजह है वो उनसे ज्यादा ध्यान से पढ़ रहा है और कई बार ऐसा भी होता है जो फर्स्ट आता है वो उनसे कम पढ़ रहा है लेकिन ध्यान से पढ़ रहा है. आपने बचपन में वो कहानी सुनी होगी जिसमें कुएं पर एक ही जगह पर रस्सी लगने की वजह से पत्थर पर निशान बन जाते हैं।

अगर बार - बार अलग अलग जगह पर रस्सी लगी होती तो निशान नहीं बनते लेकिन बार - बार रस्सी लगनी थी वो भी एक ही जगह पर तभी निशान बना. उसी तरह बार - बार एक्शन लो और वो भी एक ही focus के साथ, एक ध्यान के साथ में, एक जगह पर तब जाकर कुछ बड़ा परिणाम मिलेगा।

आपने देखा होगा जब पेपर पर लेंस से, धुप से आग उत्पन्न होती है तो उस आग की 2 वजह होती है, पहली वजह focus और दूसरी लगातार उस लेंस को पकड़ें रखना. अगर दो लड़कों को तीर से निशाना लगाने के लिए 30 दिन दिए जाए और दिन में समय भी दोनों को बराबर दिया जाए, उतने ही समय प्रेक्टिस कर सकते हो।

फिर 30 दिन बाद में जिसका निशाना अच्छा होगा उसकी वजह होगी कौन ज्यादा ध्यान से निशाना लगा रहा है क्योंकि एक्शन तो दोनों ने बराबर लिया था।

एक कोई ओलंपिक खिलाड़ी होता है जब वो परफॉरमेंस कर रहा होता है तो उस समय ध्यान बहुत ज्यादा जरूरी होता है. जब वो तीर से निशाना लगा रहा होता है या फिर कोई दूसरी performance कर रहा होता है तब उसका ध्यान 1% भी दूसरी जगह चला जाए तो उसका पूरा खेल बिगड़ जाता है।

आपने ये सुना होगा एक जादूगर की हाथ की सफाई होती है प्रेक्टिस होती है. उसको एक मैजिक ट्रिक सीखने में बहुत समय लगता है यानि वो अपने जादू को बेहतर करने के लिए बार - बार एक्शन ले रहा है वो भी पुरे ध्यान के साथ में क्योंकि जब वो मैजिक दिखा रहा होता है तो उसका ध्यान पूरी तरह से एक जगह पर होता है इसीलिए गलती नहीं होती हैं।

आपने भी सुना होगा की आप जो सोचते है वो बनते है और अगर आपको सकारात्मक परिणाम चाहिए तो आपकी सोच भी सकारात्मक होनी चाहिए. इसका मतलब यह नहीं की एक्शन बिलकुल भी ना लिए जाए, मेहनत ना की जाए. पॉजिटिव सोचना बहुत जरूरी है लेकिन बिना एक्शन वो भी पुरे ध्यान के साथ में वरना आपको कोई रिजल्ट्स नहीं मिलेगा।

बहुत से लोग है जो अपने आप पर विश्वास कर रहे है सकारात्मक सोच रहे है, बड़ा सोच रहे है और बड़े - बड़े सपने देख रहे है और कहे रहे है की सपने देखने चाहिए. इस दुनिया में कितने लोग ऐसे है जो सपने देखते है जो अच्छा सोचते है लेकिन उनमें से सफल कितने लोग होते है।

कितने लोग ऐसे है जो बड़ी - बड़ी बातें करते है और कितने लोग ऐसे है जो लगातार एक्शन ले रहे है बिना कुछ बोले वो भी पुरे ध्यान के साथ में. फेल हो रहे है लेकिन फिर भी रुक नहीं रहे है।

अमिताभ बच्चन की पहली सुपरफिट फिल्म जंजीर से पहले उनकी लगातार 15 से 16 फिल्म फ्लॉप हुई थी, बुरी तरह से फ्लॉप लेकिन वो पुरे ध्यान से और लगातार मेहनत किए जा रहे थे।

हेनरी फोर्ड जिन्होंने ford कंपनी बनाई थी उससे पहले 5 कंपनीज बनाने की कोशिश में फेल हुए थे. लोग एक बार फेल होकर रुक जाते है और कहते है मैंने तो बहुत सकारात्मक सोचा था अपना passion भी फॉलो किया था सपना भी था सबकुछ apply कर दिया फिर भी सफलता नहीं मिली।

हेनरी फोर्ड जब 5 अलग - अलग कंपनीज बनाने में फेल होते जा रहे थे तब ऐसा नहीं की उनको अपने आप पर विश्वास नहीं था ऐसा भी नहीं था की वो ध्यान लगाकर काम नहीं कर रहे थे पर कुछ कमी जरुर थी वो सकता है वो टाइम सही नहीं था या हो सकता है की कुछ चुक या छुट रहा था।

जो केवल लगातार एक्शन लेने से ही समझ आएगा. थॉमस अल्वा एडिशन ने कहा था "मैं असफल नहीं हुआ हूँ मैंने बस 10 हजार ऐसे तरीके ढूंढ़ लिए है जो काम नहीं करते है" हमेशा एक्शन लेते रहो, मेहनत करते रहो पुरे विश्वास और पुरे ध्यान के साथ में, सपने देखो, ख्वाहिश रखो, बड़ी - बड़ी इच्छाएं रखो लेकिन उसके साथ में एक्शन बहुत जरूरी है वो भी पुरे ध्यान के साथ में. काम करना बहुत जरुरी है।

अब आप सोच रहे होंगे की एक्शन कैसे लें मेरे घर में support नहीं है पैसे नहीं है ये नहीं है वो नहीं है ध्यान भी नहीं लग रहा है तो मैं आपको कुछ लोगों के उदाहरण देता हूँ।

Stephen hawking जो अभी दुनिया के सबसे इंटेलीजेंट साइंटिस्ट में से एक है उनको 21 साल की उम्र में बीमारी हो गयी थी जिससे इनका धीरे - धीरे पूरी body पर से control छुट गया था लेकिन फिर भी आज वो success हैं क्योंकि उनका जो ध्यान है वो पूरा साइंस में था ना की उनकी बीमारी पर और लगातार एक्शन लिए जा रहे थे।

Nick Vujicic को बचपन से ही ऐसी बीमारी हो गई थी की इनके जन्म से ही दोनों हाथ और पैर नहीं थे उन्होंने एक कंपनी बनाई "attitude is attitude" और दुनिया के most popular motivational speaker बन गये।

Srikanth bolla जो बचपन से ही अंधे थे दोनों आंख नहीं फिर भी एक कंपनी शुरू की जिसका मतलब है अशिक्षित और अपंग लोगों को रोजगार देना और आज ये कंपनी हर साल 50 करोड़ रुपये का टर्न ओवर कर रही है।

जो आपकी लाइफ में पैसों की प्रॉब्लम आ रही है जिस पर बार - बार ध्यान जा रहा है जिसकी वजह से आप सफलता पर ध्यान नहीं दे पा रहे है तो आपकी ये समस्या कुछ भी नहीं है इन लोगों के सामने जिनके बारे में मैंने आपको अभी बताया है लेकिन वो फिर भी नहीं रुके फिर भी कर गये।

एक्शन लेते वक्त हो सकता है फेल होते है तब बहुत बुरा लगता है बहुत बुरा महसूस होता है कई बार तो हालात बहुत खराब हो जाते है हो सकता है कुछ वक्त के लिए ध्यान कही और चला जाता है।

ऐसे ही स्टीव जॉब्स को जब उनकी खुद की apple कंपनी से निकाल दिया गया था जो कंपनी उन्होंने खुद शुरू की थी तब उनको कुछ समझ नहीं आ रहा था की वो क्या करें लेकिन वो रुके नहीं, पुरे ध्यान के साथ में एक्शन लेते रहे और दो कंपनीज बनायी Next और pixer और दोनों success हो गयी।

इस पूरी पोस्ट में लिखी गई बातों को कुछ शब्दों में कहूँ तो वो ये है की दुनिया में इतने कामयाब लोग है उनकी तरह और उनसे बेहतर आप भी बन सकते है लेकिन केवल सपने देखने से नहीं, केवल अच्छा सोचने से नहीं या केवल उसके बारे में बार - बार सोचने से नहीं बल्कि इन सबके साथ में बार - बार पुरे ध्यान से एक्शन लेने से आप इन सक्सेसफुल लोगों से भी बेहतर सफलता पा सकते हैं।

अब आप जान गए होंगे की जीवन में सफलता पाने के लिए एक्शन ही वो चीज है जो सबसे जरुरी हैं अगर आप सफलता पाना चाहते है तो पुरे focus के साथ एक्शन लेते रहें, आप सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

अगर आपको इस पोस्ट की जानकारी उपयोगी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ share करें ताकि उन्हें भी पता चल सकें की सफलता पाने के लिए सबसे जरुरी क्या होता हैं।

सफलता, सफलता, सफलता, सफलता, सफलता, सफलता, सफलता, सफलता, सफलता, सफलता, सफलता!

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Leave a Comment

×