दो प्रेमियों के सच्चे प्यार की कहानी

आज मैं आपके साथ एक छोटी सी दो प्रेमियों की सच्ची कहानी share कर रहा हूं जो आपको बहुत बड़ी सीख दे सकती है! ये है तो दो लफ्जों की कहानी पर ये कहानी आपके सोचने का नजरिया बदल देगी और आप बदलने पर मजबूर हो जाओगे! तो आईये पढ़ते है 2 Premiyo Ki Kahani.

दो प्रेमियों की कहानी जो सोचने का नजरिया बदल दे

एक आदमी ने एक सुंदर लड़की से विवाह किया, शादी के बाद दोनों अपनी जिंदगी प्रेम से बसर कर रहे थे आसपास के अड़ोसी-पड़ोसी भी उनको देखकर कहते थे की ये दो सच्चे प्रेमी है!

ये भी पढ़ें:-

प्यार करने वाले अपने प्यार का दिखावा नहीं करते है लेकिन फिर भी उनका प्यार हर कोई देख और महसूस कर सकता है, वह आदमी उसे बहुत मोहब्बत करता था और उसकी प्रशंसा भी खूब करता था।

लेकिन कुछ महीनों बाद उस आदमी की खुबसूरत बीवी त्वचारोग से ग्रस्त हो गई और धीरे-धीरे उसकी खूबसूरती कम होने लगी, वो सोचने लगी और उसे डर सताने लगा की, अगर मैं बदसूरत हो गई तो मेरा पति मुझसे प्यार करने की बजाय नफरत करने लगेगा

और वह खुद के प्रति अपने पति के द्वारा नफरत बर्दाश्त नहीं कर सकेगी.

किस दिन उसके पति को किसी काम से बाहर जाना पड़ा और उसकी किस्मत ऐसी फूटी की जब वो अपना काम पूरा करके घर अपनी पत्नी के पास वापस आ रहा था रस्ते मैं उसका एक्सीडेंट हो जाता है और उसकी पत्नी को खबर मिलती है की उसके पति की एक्सीडेंट दोनों आखें चली गई।

जब उसने अपने पति को देखा तो इसमें कोई शक नहीं था. फिर भी इसी हालात में उनकी जिंदगी बीतती रही, साल बीतती गई और महीने आते रहे और जाते रहें।

अब तक उस लड़की की खुबसूरत बिलकुल गायब हो गई थी पर उसके अंधे पति को इस बारे में कुछ पता नहीं था की उसकी खुबसूरत पत्नी अब कैसी दिखती है।

इस कारण उन दोनों के प्रति एक दुसरे की मोहब्बत बरकरार रही और वो आदमी उसे ऐसे ही प्यार करता रहा.

समय और बुरा आया और उस आदमी की पत्नी की मुत्यु हो गई, जिसका उसके पति पर बुरा असर पड़ा और अब वो बिलकुल बेसहारा हो गया।

उसकी जिंदगी में मानों दुखों का पहाड़ टूट पड़ा हो, उसने उस शहर को छोड़ने का फैसला ले लिया और अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार किया और एक दो दिन बाद उस शहर को छोड़कर जाने लगा।

अभी कुछ कदम ही चला था की एक आदमी ने उसे पीछे से आवाज लगाई - रुको, वो आदमी उस अंधे आदमी को जानता था!

उसने अंधे आदमी से कहा "अब तुम किसके सहारे अपनी जिंदगी का बसर करोगे, इतने साल तो आपकी पत्नी ने आपका साथ दिया और अब कैसे चल पाओगे" (ईश्वर ने आपकी आंखें जो छीन ली है!).

ये सब सुनकर, उस अंधे आदमी ने जवाब दिया की भाई "सब मुझे अँधा समझते है जबकि मैं अंधा नहीं हूँ मैं सिर्फ दिखावा और नाटक कर रहा था।

तो उस आदमी ने उससे पूछा की भाई "आपने ऐसा क्यों किया" तो अँधा होने का नाटक करने वाला आदमी बोला भाई अगर मैं ऐसा नहीं करता तो मेरी पत्नी को पता चल जाता की मैं अपनी पत्नी की बदसूरती देख सकता हूँ।

और यह बात उसे उसके बदसूरत होने के दर्द से ज्यादा दर्द देती की मेरा पति मेरी बदसूरती देख सकता है. इसलिए मैं अंधा होने का नाटक करता रहा. मेरी पत्नी बहुत अच्छी पत्नी थी और मैं उसे हमेशा खुश देखना और रखना चाहता था।

तब जा के उस आदमी को समझ आया की "उस प्रेमी ने अपनी प्रेमिका को खुश रखने के लिए कितना बड़ा काम किया था" और उसे ख्याल आया की सच्चे प्रेमी ऐसे ही होते हैं।

इस कहानी से क्या सीख मिलती है:- किसी को खुश रखने या खुश रहने के लिए हमें एक दुसरे की कमियों के प्रति आंखें बंद कर लेनी चाहिए और उन कमियों को नजरअंदाज कर देना चाहिए।

ये भी पढ़ें:-

अगर आपको इस दो प्रेमियों की कहानी से अच्छी सीख मिले तो इस कहानी को अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर share करें ताकि आपकी वजह से कोई और भी इस छोटी से प्रेरणादायक कहानी को पढ़ सकें।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Comments ( 6 )

  1. USNE APNI PATNI KO KHUSH KARNE KE LIYE KIYA HAI YR PATI HO YA PATNI EK DUSRE MAI JAB SACHA PYAR HO NA THO DONO HI EK DUSRE KI KHUSHI KE LIYE KUCH BHI KARTE HAI IS KAHANI SE EK BAAT KI SIKH MILE HAI .LIKE: JO AAJ KAL KE SHADI SHUDA LIFE NHI SAMJHTI HAI KI EK DUSRI M KI KHUSHI KE LIYE KUCH BHI KAR KAR DO .HMESHA SUKH DUKH SATH BATNA CHIYE .

    Reply
    • Wow Apne bhut hi sunder baat likhi hai

      Reply
  2. हृदय इस्पर्श कहानी

    Reply
  3. Achhi nhi h bhai mera sunoge kahani to dil tut jayega

    Reply
    • क्यों नहीं, आप यहाँ अपनी कहानी शेयर कर सकते है

      Reply
  4. बहुत ही अच्छी कहानी है भाई दिल को छू जाने वाली

    Reply

Leave a Comment

×