होली पर कविता - Holi Kavita 2022 (Holi Poems in Hindi)

आज के इस आर्टिकल में हम आपके साथ होली की कविता, होली पर कविता, Holi Kavita, Holi Poems 2022 साझा कर रहे हैं जो आपको बहुत पसंद आएंगी। Poem on Holi in Hindi का इस्तेमाल आप अपने स्कूल, कॉलेज आदि में कर सकते हैं।

Holi Kavita poem in hindi

होली का त्योहार खुशियों के साथ आता है, इसलिए इसे खुशियों का त्योहार भी कहा जाता है। होली के दिन लोग एक दूसरे को मिठाई बांटते हैं और बधाई देते हैं।

कुछ लोग शायरी, कविता आदि के माध्यम से अपनी खुशी का इजहार करते हैं और एक दूसरे को होली की शुभकामनाएं देते हैं।

खासतौर पर बच्चों के लिए होली का त्योहार बहुत मजेदार होता है। यहाँ हमने बच्चों और बड़ों के लिए होली पर कविताएँ साझा की हैं जो बहुत मजेदार है।

होली पर कविता - Holi Kavita, Holi Poems in Hindi 2022

होली के उत्सव के दौरान, स्कूल, कॉलेज आदि में भाषण, शायरी आदि बोलने के लिए आमंत्रित किया जाता है। आप होली कविता का पाठ करके होली के त्योहार को और मज़ेदार बना सकते हैं।

Holi Kavita

रंगों का त्योहार है होली,
खुशियों की बौछार है होली,
लाल गुलाबी पीले देखो,
रंग सभी रंगीले देखो।
पिचकारी भर भर ले आते,
इक दूजे पर सभी चलाते,
होली पर अब ऐसा हाल,
हर चेहरे पर आज गुलाल,
आओ यारो इसी बहाने,
दुश्मन को भी चलो मनाने।

Holi Poems

होली है आई आज तेरे द्वार,
मिल जायेंगे सखिया सहेली और पुराने यार,
शोर से मोहल्ला सराबोर है,
होली गीत के ही बजते ढ़ोल है,
कोई बजाये ढ़ोल कोई मंजीरे,
कोई लिए रंग गुलाल हाथ में,
कोई भरे पिचकारी,
कोई झूमे भंग के नशे में,
कोई फाग के गीतों में,
दिल से दिल मिल जाए,
कोयल यही मल्हार गाए,
रंग रंगीला है यह त्योहार,
सज जाए यादें जब मिल जाए यार।

Short Poem on Holi in Hindi

रस रंग भरे मन में होली,
जीवन में प्रेम भरे होली।
मुस्कान रचे सब अधरन पर,
मिल जुल कर सब खेलें होली।
गले लगें सब मन मीत बने,
रंगों से मन का गीत लिखें।
जीवन में मधु संगीत भरें,
भूले बिसरों को याद करें।
जो संग में थे पिछली होली,
रस रंग भरे मन में होली।

Holi par Kavita

रंग रंगीली आई होली,
खुशियों को संग लायी होली।
अपने रंग में रंगने को,
अपनों को संग लायी होली।
बुराईयों को मिटाने को,
अच्छाई का दीप जलाये होली।
रूठे हुए को मनाने को,
प्यार की भाषा सिखाये होली।
भूखे हुए को खिलाने को,
पकवानों की थैली लायी होली।
बिछड़े हुए को मिलाने को,
रंगों की शाम लायी होली।
सभी के जीवन को खुशहाल करने को,
यादों की पोटरी लायी होली।

Holi festival Poem in Hindi

होली का त्यौहार आया,
खुशियों की सौगात लाया,
रंगों की उड़ान लाया।
होली का त्यौहार आया,
प्यार की गंगा संग में लाया,
सबके मन को भाया।
होली का त्यौहार आया,
चंग और थाप की टोली लाया,
गीत मल्हार को संग में लाया।
होली का त्यौहार आया,
एक दूजे को रंग में रंगने को आया,
सब के साथ घुल मिलने को आया।
होली का त्योहार आया,
ग्रीष्म ऋतू को संग में लाया,
रंगों और उमंगों की पहचान लाया।

Hindi Poem on Holi Festival

खुशियां है भरती झोली में,
चेहरा रंगों में रंग जाता है,
हर वर्ष फाल्गुन मास में जब,
होली का त्यौहार आता है।
लो आ गया हुड़दंगियों का झुंड,
अब जम कर मस्ती और धमाल होगा,
थिरकेगी तबले की ताल पर कुंडिया,
और मुंडों का दिल भी बाग़-बाग होगा।

Hasya Kavita on Holi in Hindi

होली आई, होली आई,
रंग बिरंगी होली आई,
खुशियों का मौसम है लाई,
होली आई, होली आई।
और बच्चों की टोली आई,
पिचकारी, रंग गुब्बारे लाई,
गुझियां खाओ, खाओ मिठाई,
रंग-बिरंगी होली आई,
रूठे दोस्त मिलाने लाई,
चाची आई, मामी आई,
रंग लगाने दौड़ी आई,
होली आई, होली आई,
रंग बिरंगी होली आई।

Holi Poem in Hindi language

होली है भाई होली है,
प्यार भरी रंगोली है,
आओ मिलकर साथ चलें,
सबसे जाकर गले मिले,
लो अपनी टोली निकली,
धूम मची है गली गली,
पीला, हरा, गुलाबी, लाल,
चले हाथ में लिए गुलाल।
सबसे अपनी यारी है,
रंग भरी पिचकारी है,
नाच रहे हैं खड़े-खड़े,
झूम रहे है बड़े-बड़े,
यह सबका त्यौहार है,
हमको सबसे प्यार है।

Holi Poetry in Hindi

बसंत की शोभा बढ़ाने,
देखो बच्चों आई होली।
रंगों की बौछार के संग,
खुशियों के दिन लाई होली,
होली आई, होली आई।
सर्दी में जो ठिठुर रहे थे,
खेल रहे है पानी में,
ठंड को दूर भगाने,
रूठे अपनों को मनाने,
देखो सभी होली आई।
दौड़ रहे है, भाग रहे है,
सबको खुशी के रंग में रंग रहे है,
रंगों की बहार लिए,
सभी के संग मुस्काई,
होली आई, होली आई।

Poem on Holi in Hindi for Class 3, 4, 5 to 6

होली है भई होली है,
बुरा न मानो होली है।
आओ मिल के खुशियाँ मनाएं,
अपनों को हम रंग लगाएँ।
फूलों से हम खेलें होली,
बचत करें हम पानी की।
सब मिल कर जोर से गाएं,
बुरा न मानो होली है।
किसी को ना ठेस पहुचाएं,
नए नए पकवान खाएं और खिलाएं।
खुद भी रंग लगाएं,
और दूसरों पर भी अबीर लगायें।
टोली बना कर गाएं हम सब,
बुरा न मानो होली है।

Poem on Holi for children in Hindi

देखो देखो होली आई,
कितनी सारी खुशियां लाई,
होली का अनोखा त्यौहार,
लाता खुशियों की भरमार,
मौसम ने ली है अंगड़ाई,
सूरज ने भी अपनी गर्मी दिखाई,
देखो देखो होली आई।
सब मिलकर नाचे गाएं,
इक दूजे को रंग लगाएं,
बच्चों ने भी है अपनी,
पिचकारी खूब चलाई,
देखो देखो होली आई।
चारों और अबीर गुलाल,
रंगीन घटा है छाई,
गीले शिकवे मिटाकर सब,
गले मिले हैं भाई,
देखो देखो होली आई।
आओ हम सब मिलकर,
बुराई की होली जलाएं,
भक्त प्रहलाद को याद करें हम,
अवगुण दूर भगाएं,
यह बात दादा जी ने,
हम सबको समझाई,
देखो देखो होली आई,
कितनी सारी खुशियां लाई।

होली पर बाल कविता

होली आई रे होली आई,
रंग-बिरंगे रंग उड़ाती आई,
धूम मचाती होली आई,
खुशियाँ बांटती होली आई,
बच्चों की ये टोली, साथ अपने पिचकारी लाई,
देखो घरों से कैसी ये खुशबु आई,
गुंजियों की महक ने बचपन की याद है दिलाई,
सारे जग में रंगों की ये फुलवाड़ी खिल उठी,
जिसे देख मन मगन हो जाए,
देखो होली आई होली आई।

बच्चों के लिए होली पर कविता

आओ बच्चों इस होली में,
कुछ नवीन कर डालें,
ऊंच-नीच, निर्बल सबको,
हम अपने गले लगा लें।
जिनके पास नहीं कुछ भी है,
उनको भी हम रंग दें,
मित्र बना कर उन सबको,
हम टोली का दें।
खाते नहीं मिठाई, गुझिया,
कुछ उनको भी बाँटें,
प्रेम प्रीत का सबक सिखाएं,
न दुत्कारे -डांटें।
यह संदेश होली का है,
द्वार द्वार पहुंचाएं,
जीवन जीते पर हित में,
वही महान कहलाये।

Best Holi Poems in Hindi

तुमको रंग लगाना है,
होली आज मनाना है।
प्रतिकार करो इनकार करो,
पर रगों को स्वीकार करो।
रगों से तुम्हें नहलाना है,
होली आज मनाना है।
भर पिचकारी बौछार जो मारी,
भीगी चुनरी भीगी साड़ी।
अपने ही रंग में रंगवाना है,
होली आज मनाना है।
अबीर गुलाल तो बहाना है,
दूरियाँ दिलों की मिटाना है।
तो कैसा ये शरमाना है,
होली आज मनाना है।

Hindi Kavita on Holi

हवाएं हो गई है रंगीन,
रंगीन हो गई है धरा,
होली के त्यौहार ने आज,
सबके भीतर उत्साह भरा।
ख़ुशी खुशी खेले सब,
बनाकर मित्रों संग टोली,
गालों पर लगा है गुलाल,
रंग रंगीली आई होली।
रंग उड़ा है चारों और,
गुलाबी, पीला, लाल हरा,
एक दूजे को मारे सब,
गुलाल, पिचकारी, गुब्बारा।

Holi par Hindi Kavita

बड़े प्यार से अम्मा बोली,
खूब मनाओ भैया होली।
नहीं करेंगे कभी कुसंग,
डालो सभी परस्पर रंग।
एक वर्ष में होली आई,
जी भर खेलो खाओ मिठाई।

होली की कविता

बुराइयों को छोड़ जाना,
अच्छाइयों को अपना जाना,
खुशियों को बांट जाना,
होली के रंग में रंग जाना।
रूठे हुए को मना जाना,
बिछड़े हुए को मिला जाना,
दुखों को बांट जाना,
होली के रंग में रंग जाना।
पकवानों को साथ लाना,
गरीबोँ को साथ खिलाना,
तोहफे को बांट जाना,
होली के रंग में रंग जाना।
दुआओं को साथ लाना,
आशीर्वादों को समेट जाना,
हर किसी को गले लगाना,
होली के रंग में रंग जाना।

यदि आप होली की शायरी की तलाश में हैं, तो नीचे दिए गए आर्टिकल में जाएं।

So guys, ये थी होली की कविताएँ, अगर आपको पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर करें।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Leave a Comment

×