पोकर खिलाड़ियों की अद्भुत कहानियाँ

पोकर एक मानसिक खेल है। इसमें रिस्क, स्ट्रैटेजी, और मानसिक ताक़त का इस्तेमाल होता है। यहाँ हम आपको पोकर खिलाड़ियों की अद्भुत कहानियों के बारे में बताएंगे, जिन्होंने अपने जीवन में पोकर को एक नये दिमाग से देखा। पोकर खेल जो आपके जीवन को बदल सकता है, आज के इस आर्टिकल में हम आपको पोकर खिलाड़ियों की अद्भुत कहानियाँ बता रहे हैं।

पोकर खिलाड़ियों की अद्भुत कहानियाँ

जब हम पोकर के खिलाड़ियों की बात करते हैं, तो हम उनकी अद्भुत कहानियों का सफर जानने के लिए अत्यंत प्रसन्न होते हैं। पोकर ने कई लोगों के जीवन को बदल दिया है। अगर आप भी पोकर खिलाड़ियो के बारे मे जानने की इच्छा रखते है तो लेख के अंत तक बने रहें।

पोकर खिलाड़ियों की अद्भुत कहानियाँ

1. एंड्रयू बेडेकर

एंड्रयू बेकार ने उसी तरह पोकर खेलना शुरू किया जैसे ज्यादातर लोग खेलना शुरू करते हैं अपने दोस्तों के साथ। लगातार जीत हासिल करने के बाद, उन्होंने ऑनलाइन खेलना शुरू करने का फैसला कर लिया।

ऑनलाइन पोकर ने एंड्रयू बेकार के लिए सीखने का अनुभव वास्तविकता की जांच करने का अवसर प्रदान किया। पोकर के प्रति उनका जुनून बढ़ता गया और कठिन अध्ययन और दृढ़ता के माध्यम से उनका कौशल और भी बढ़ते गया। एंड्रयू बेकार ने अपना समय पढ़ाई, नौकरी और जितना हो सके उतना ऑनलाइन पोकर खेलने के लिए बांट रखा था।

एक दिन की बात है जब एंड्रयू बेकार ने 7,000 डॉलर दिन मे कमाए उसके बाद, उन्होंने पोकर को करियर के रूप में अपनाने का फैसला लिया और अपनी नौकरी, पढ़ाई छोड़ दिया। 2010 में एंड्रयू के पोकर करियर ने उड़ान भरी जब उन्होंने 7 टूर्नामेंटों में करीब 70,000 डॉलर कमाए। अकेले सिर्फ उनकी 2011 मे पोकर की जीत $800,000 से अधिक थी।

2. एनेट ओब्रेस्टेड 

एनेट ओब्रेस्टेड (महिला खिलाड़ी) उन्होने कम उम्र में ही पोकर खेलना शुरू कर दिया था, जिसके बाद फ्रीरोल टूर्नामेंट जीतकर, लगातार ऑनलाइन पोकर खेलकर अपने कौशल को निखार कर अपना बैंकरोल विकसित किया। उनकी जीत आश्चर्यजनक थी। अकेले सितंबर 2006 और फरवरी 2007 के बीच, वह कुल $836,000 जीतने में सफल रहीं।

उसकी प्रतिभा और आत्मविश्वास भी तेजी से विकसित हो रहा था। खेल मे अपनी स्थिति को अच्छी तरह से खेलना और टेबल पर अन्य खिलाड़ियों पर ध्यान देना कितना महत्वपूर्ण है यह बात वो अच्छी तरह समझती थे।

2007 में, उनके करियर में एक बड़ा बदलाव हुआ जब उन्होंने एक प्रतियोगिता में दो विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिए। उनके 19 वें जन्मदिन से एक दिन पहले पोकर यूरोप मेन इवेंट की वर्ल्ड सीरीज़ उन्होने जीती और जीतने पर उन्हें £1,000,000 की कमाई हुई, जो किसी महिला खिलाड़ी की अब तक का सबसे अधिक पोकर की कमाई रही है।

इसे जीत पर उन्हें वर्ल्ड सीरीज़ ऑफ़ पोकर ब्रेसलेट जीतने वाली सबसे कम उम्र की व्यक्ति भी बनाया गया।

3. टॉम ड्वान 

टॉम ड्वान ऑनलाइन पोकर में, एक शौकिया खिलाड़ी से पेशेवर सफलता प्राप्त करने का एक और बड़ा उदाहरण है। उन्होंने 2004 में केवल 50 डॉलर के बैंकरोल के साथ पोकर खेलना शुरू किया था, फिर कॉलेज छोड़ दिया और महज 17 साल की उम्र में फुल टाइम पोकर खिलाड़ी बन गए।

उनके करियर की शुरुआत धीमी गति पर रही, लेकिन चार साल के अपने अनुभव को विकसित करने के बाद, उन्होंने $5.4 मिलियन से अधिक कीमत जीत लिया। बड़े नुकसान को सहने की टॉम की क्षमता महत्वपूर्ण थी, 

2007 विश्व पोकर चैंपियनशिप से पहले, ड्वान ने बताया था कि उसने अपने 3 मिलियन डॉलर के बैंकरोल में से 2 मिलियन डॉलर पोकर मे खो दिए हैं, लेकिन एक साल के अंदर ही उनका बैंकरोल पहले की तरह हो गया।

टॉम ड्वान के ऑनलाइन उपयोगकर्ता नाम के नाम पर 500 हैंड लाइव हेड-अप टूर्नामेंट की शुरुआत की गई जिसका नाम था “ड्यूरर मिलियन डॉलर चैलेंज’

4. बॉबी बाल्डविन 

बॉबी बाल्डविन व्यवसाय जगत में धूम मचाने वाले पोकर खिलाड़ियों के सबसे महान उदाहरणों में से एक है। 15 साल की उम्र में पोकर गेम की खोज करने के बाद, वह जल्द ही पोकर टेबल पर इसका मुकाबला करने लगे।

उन शुरुआती खेलों में, बॉबी बाल्डविन हर गेम हार जाया करते थे , लेकिन जब उसने यूनिवर्सिटी में बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की पढ़ाई शुरू की तब उनके एक रूम मेट ने उन्हे पोकर खेलना सिखाया और वह जल्द ही सीख गए और $100 जीत गए।

उन्होंने फुल टाइम पोकर खेलना शुरू करने के लिए अपने स्कूल के अंतिम साल मे ही उसे छोड़ दिया और उन्हे अपने फैसले का फल मिला। उन्होने 1978 में 210,000 डॉलर में पोकर मेन इवेंट की वर्ल्ड सीरीज़ जीती,

और उस समय केवल 28 साल की उम्र में ऐसा करने वाले वह सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए। 68 वर्षीय बॉबी बाल्डविन को 2003 में पोकर हॉल ऑफ फेम के लिए चुना गया था।

5. डॉयल ब्रूनसन 

डॉयल ब्रूनसन अपने कॉलेज के दिनो मे ही पोकर खेलना सीखे थे, 1955 में मास्टर डिग्री के साथ ही उन्होने कॉलेज छोड़ दिये, जिसके बाद वह एक स्कूल प्रिंसिपल बन गए। कुछ समय बाद बिजनेस मशीनें बेचने की नौकरी भी की लेकिन, बिक्री में जीवन संभव नहीं था। 

कॉलेज में पोकर खेलना सीखने के बाद, ब्रूनसन को एहसास हुआ की बिक्री की तुलना में पोकर से वह अधिक पैसा कमा सकते है। उन्होने फिर पोकर खेलने की शुरुआत की। डॉयल ब्रूनसन ने अपनी आत्मकथा भी लिखी है जिसका नाम है, “द गॉडफादर ऑफ पोकर”

उन्होने लिखा है कि मेरा शुरुआती पोकर करियर मेरे एथलेटिक करियर या मेरे द्वारा किए गए किसी भी काम से अलग नहीं था। मैं आदी था, जुनूनी था, मेरे पास जो कुछ भी था, मैंने अपनी सारी ऊर्जा अपने नए व्यवसाय में लगा दी।

उनकी मेहनत रंग लाई, 85 की उम्र में भी, वह दुनिया में सबसे अधिक नकदी वाले खेलों में नियमित हैं, पोकर लीजेंड और हॉल ऑफ फेमर मे ग्रामीण टेक्सास से एक लंबा सफर तय किया है और पोकर दुनिया के बड़े राजनेता बने हुए हैं।

निष्कर्ष 

पोकर एक ऐसा खेल है जो किसी को भी अपने खेल कौशल से चमका सकता है। ये पांच पोकर खिलाड़ियों की अद्भुत कहानियाँ हैं जिन्होने खुद को साबित किया है कि मेहनत और प्रतिबद्धता से कुछ भी संभव है।

आशा करते है पोकर खिलाड़ियो की ये अद्भुत कहानियाँ आप को पसंद आई होगी और इससे आप ने सीखा होगा, हमारे साथ लेख के अंत तक बने रहने के लिए धन्यवाद।

Disclaimer: This content is for reference purposes only and we does not support or promote piracy and any any illegal work.