26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रिय त्यौहार है जिसे हम हर साल 26 जनवरी को खुशी और उत्साह के साथ मनाते है। इसी दिन 1950 को 10.18 पर भारत का संविधान लागू किया गया था। 2022 में भारत अपना 73वां गणतंत्र दिवस (republic day) मना रहा है। 26 january को गणतंत्र दिवस (रिपब्लिक डे) समारोह पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा भारतीय राष्ट्र ध्वज को फहराया जाता है और इसके बाद सामूहिक रूप में खड़े होकर राष्ट्रगान गाया जाता है। गणतंत्र दिवस जिसे republic day भी कहा जाता है को पुरे देश में भारत की राजधानी दिल्ली में बड़े उत्साह और खुशी के साथ मनाया जाता है।

26 जनवरी क्यों मनाई जाती है Republic Day Kyu Manate Hai

अब जल्द ही कुछ दिनों के अंदर देश में 26 जनवरी का त्यौहार आने वाला है। 26 जनवरी के पर्व को हम लोकतंत्र का सबसे बड़ा पर्व मानते है। आजादी हमको 15 अगस्त को मिली थी लेकिन फिर भी हम 26 जनवरी सेलिब्रेट करते है और खुशियों के साथ मनाते है। बहुत कम लोगों को पता होगा की गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है और 26 जनवरी के दिन ही क्यों मनाते है इस पोस्ट में मैं आपको यही बताने वाला हूं की 26 जनवरी क्यों मनाते हैं।

26 जनवरी मनाने के पीछे वैसे तो बहुत सी वजह है पर 3 common वजह है जो मैं आपको बता देना चाहता हूं। अगर आपको इस पोस्ट से पता चलें की गणतंत्र दिवस यानि republic day क्यों मनाया जाता है तो इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर जरूर करें।

गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है? 26 जनवरी का इतिहास

अगस्त 1947 को हमारा देश भारत आजाद हुआ था लेकिन उसके पूर्व 7 से 8 महीने पहले ही देश की आजादी की घोषणा हो गई थी और संविधान लिखने का कार्य शुरू हो गया था। 1935 का जो हमारा संविधान था उसके अनुसार हमारा नया संविधान बनाया गया।

संविधान को बनाने में लगभग 2 साल 11 महीने और 18 दिन यानि 3 साल लगे थे लेकिन संविधान लागू कब हुआ। संविधान को टुकड़ो टुकड़ो में पढ़ा गया और टुकड़ो टुकड़ो में जनता को इसके बारे में जानकारी देते गये। ऐसे ही ऐसे हमारे देश में संविधान को पूरी तरह 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया था।

मतलब आजादी के लगभग 2 या ढाई साल बाद यानि 1947 से संविधान का बनना शुरू हुआ और 1950 में संविधान लागू किया गया। लेकिन 26 जनवरी को जब संविधान लागू किया गया तो उसके साथ में हमारे देश में लोकतंत्र का एक नया सेलेबर्स बनाया गया। लोकतंत्र का सेलेबर्स कुछ इस प्रकार था।

जनता में से जनता द्वारा और जनता के लिए चुनी हुई सरकार। इससे जनता का राज देश में लागू हो गया और संविधान देश में पूरी तरह लागू हो गया। इसलिए हम देश को 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस कहते है या republic day. जिसे जनता का दिन भी कहा जाता है।

इस दिन देश में पूरी तरह से लोकतंत्र लागू हुआ था। इसके अलावा हमारे देश का राष्ट्रिय ध्वज भी 26 जनवरी को ही में में लागू हुआ था। साथ ही हमारे देश भारत के राष्ट्रगान "जन गण मन" को भी 26 जनवरी के दिन ही अप्लाई किया गया था। वैसे मान्यता पहले से थी लेकिन 26 जनवरी को ये हमारे देश का राष्ट्रगान के रूप में घोषित किया गया था।

इसी के साथ देश में पूरी तरह से लोकतंत्र लागू हो गया और इसके साथ हमारे देश की जनता को कुछ अधिकार भी दिये गये। उसमें से सबसे बड़ा अधिकार था जो एक ऐसा अधिकार है जिससे हमको पूरी तरह आजादी मिल सकती है जिससे न हमको कोई बिना वजह गिरफ्तार कर सकता है हम देश में कही पर भी घूम सकते है।

इस तरह 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाने लगा और 2022 में भारत 73 वां गणतंत्र दिवस यानि रिपब्लिक डे मना रहा है। इसलिए 26 जनवरी मनाई जाती है और इसी दिन गणतंत्र दिवस (republic day) मनाया जाता है। अब आपको पता चल गया होगा की 26 जनवरी क्यों मनाई जाती है और इसी दिन गणतंत्र दिवस क्यों मनाते है और 26 जनवरी का क्या महत्त्व हैं।

26 January को गणतंत्र दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि 26 जनवरी को ही भारत का संविधान लागू किया गया था इसलिए आज ही के दिन 26 जनवरी को हर साल गणतंत्र दिवस जिसे republic day भी कहा जाता है और republic day को जनता का दिन भी कहा जाता है इसी दिन को हर वर्ष गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता हैं।

अगर आपको इस पोस्ट से 26 जनवरी क्यों मनाते है और इसी दिन गणतंत्र दिवस क्यों मनाया जाता है के बारे में अच्छी जानकारी मिली हो तो इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें ताकि आपकी वजह से कोई और भी republic day के बारे में जान सकें।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Comments ( 3 )

  1. hum jante hai ki bharat ke samvidhan ko likhne wale dr bheem rao ambedkar hai par aisa kyo hota hai ki kabhi hame unke bare kitabo me kabhi padhne ko nahi milta jitna gandhi aur nehru ke bare me

    Reply
  2. bahut khub...bhai

    Reply
  3. Bahut badhiya speech hai. Aise hi post karte rahe sir ek baat batau ye mera experiunce hai.ki hindi post hinglish se achhi lagti hai.

    Reply

Leave a Comment

×