डॉक्टर (MBBS) क्या है और कैसे बने?

दोस्तों, जब एक स्टूडेंट दसवीं पास करता है तो उसका करियर ग्यारवीं पर लिए गए सब्जेक्ट्स पर निर्भर करता है। ग्यारवीं में लिए गए सब्जेक्ट्स से ये तय होता है कि स्टूडेंट भविष्य में किस फील्ड में जाना चाहता है। कुछ स्टूडेंट्स इंजीनियर बनना चाहते हैं तो कुछ बच्चे मेडिकल क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं। कुछ स्टूडेंट डॉक्टर (M.B.B.S) बनना चाहते है। उन्ही की मदद के लिए आज हम इस आर्टिकल में बतायेंगे की एक MBBS डॉक्टर कैसे बने? डॉक्टर बनने के लिए क्या करे?

MBBS क्या है और कैसे करें?

स्टूडेंट्स को ये तो पता होता है कि डॉक्टर बनने के लिए MBBS करना होता है लेकिन MBBS क्या है और कैसे होता है, इसकी सही से जानकारी नहीं होती है। इसीलिए आज हम आपको इस कोर्स के बारे में बताएंगे। (MBBS kya hai in hindi- puri jankari) (what is MBBS, and how to become a doctor)

डॉक्टर को भगवान का दर्जा दिया जाता है। वो डॉक्टर ही होते हैं तो खुद की परवाह किए बिना दूसरों का इलाज करते हैं। अगर आप भी डॉक्टर बनना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

सबसे पहले मैं आपको ये बता दूं कि डॉक्टर बनने के लिए सिर्फ MBBS ही कोर्स नहीं होता है बल्कि और भी दूसरे मेडिकल कोर्सेस करके डॉक्टर बना जा सकता है। इसीलिए पहले आपको संक्षेप में उन कोर्सेस के बारे में बताउंगी और उसके बाद हम MBBS के बारे में विस्तार से जानेंगे।

डॉक्टर बनने के लिए कोर्सेस (Requirement courses for become doctor in Hindi)

हालांकि मेडिकल क्षेत्र में MBBS को काफी अहम माना जाता है लेकिन दूसरे कोर्सेस करके भी डॉक्टर बन सकते हैं। लेकिन सबके लिए ज़रूरी है कि आप 11वीं और 12वीं में सब्जेक्ट्स सोच-समझकर लें।

अगर आप भविष्य में डॉक्टर बनना चाहते हैं तो 11वीं और 12वीं में भौतिकी (Physics), रसायन विज्ञान (Chemistry) और जीव विज्ञान (Biology) सब्जेक्ट्स का चयन करें। 12वीं करने के बाद आपको कुछ मेडिकल कोर्सेस में दाखिला लेने के लिए एंट्रेस एग्जाम्स देने होते हैं।

जैसे- CET, AIMEE, AIPMT, NEET आदि। इन एग्जाम्स में आपके 11वीं, 12वीं के सिलेबस से ही सवाल किए जे हैं।

चलिए अब जानते हैं मेडिकल क्षेत्र के कुछ पॉपुलर कोर्सेस के बारे में,

  • MBBS (Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery) – 5.5 years
  • BDS (Bachelor of Dental Surgery) – 4.5 years
  • BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery) – 5.5 years
  • BAMS (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery) – 5.5 years
  • MD (Doctor of Medicine) – 3 years
  • MS (Master of Surgery) – 3 years
  • DM (Doctorate in Medicine) – 2 to 3 years
  • B. Pharm (Bachelor of Pharmacy) – 4 years
  • B.Sc. Nursing – 4 years
  • BPT (Physiotherapy) – 4.5 years
  • BOT (Occupational Therapy) – 3 years
  • BUMS (Unani Medicine) – 5.5 years
  • D. Pharm (Ayurvedic, Siddha Medicine) – 2 years
  • BMLT (Bachelor of Medical Lab Technician) – 3 years

ऊपर बताए गए कोर्सेस ग्रेजुएशन लेवल के कोर्से हैं। चलिए अब सबसे ज़्यादा पॉपुलर कोर्स MBBS के बारे में जानते हैं।

MBBS क्या है और एमबीबीएस डॉक्टर कैसे बने?

MBBS मेडिकल फील्ड में ग्रेजुएशन लेवल का एक कोर्स होता है। ये इस फील्ड का सबसे बड़ा कोर्स माना जाता है। इस कोर्स को करने के लिए आपके पास 12वीं में Biology होनी चाहिए और उसके बाद आपको एंट्रेस एग्जाम क्लियर करना होता है।

MBBS की फुल फॉर्म है - Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery यानि चिकित्सा स्नातक और शल्य चिकित्सा स्नातक।
ये तो हमने जाना कि MBBS क्या है, अब हम बात करेंगे कि MBBS कैसे किया जाता है। इसमें हम MBBS से जुड़े कुछ छोटी-छोटी बातें आपको बताएंगे।

MBBS कैसे करें और कितने साल का कोर्स होता है?

MBBS को पूरा करने में 5.5 साल का समय लगता है जिसमें 4 साल 6 महीने कॉलेज में पढ़ाया जाता है और उसके बाद 1 साल इंटर्नशिप कराई जाती है। 4 साल 6 महीने में 9 सेमेस्टर होते हैं।

MBBS के लिए क्वॉलिफिकेशन

MBBS में एडमिशन लेने के लिए 12वीं कक्षा में मेडिकल के सब्जेक्ट्स चुनें जिसमें Physics, Chemistry और Biology शामिल होंगे। 12वीं में आपकी minimum percentage 50% होनी चाहिए। इसके बाद आपको CET, AIMEE, AIPMT, NEET आदि जैसे entrance exams क्लियर करने होते हैं।

ध्यान रखें कि एंट्रेस एग्जाम क्लियर किए बिना आप MBBS के लिए दाखिला नहीं ले सकते हैं। आपकी इन एग्जाम्स की रैंकिंग पर निर्भर करता है कि आपको सरकारी कॉलेज में दाखिला मिलेगा या प्राइवेट कॉलेज में। MBBS में एडमिशन लेने के लिए आपकी उम्र 17 से 25 साल के बीच होनी चाहिए।

MBBS की फीस

हर कोई जानता है कि मेडिकल की पढ़ाई करना आसान नहीं होता है क्योंकि इसमें बहुत खर्चा आता है। ऐसे में अगर आप सरकारी कॉलेज से MBBS करते हैं तो आपको खर्चे में कुछ राहत मिल सकती है।

अगर आप सरकारी कॉलेज से पढ़ते हैं तो एक साल में 20-80 हज़ार तक का खर्चा आता है। लेकिन अगर आप निजी कॉलेज या किसी यूनिवर्सिटी से पढ़ाई करते हैं तो 3-8 लाख की वार्षिक फीस हो सकती है।

नोट:- हर कॉलेज, यूनिवर्सिटी का Fee structure अलग अलग होता है।

भारत के टॉप 10 मेडिकल कॉलेज

  • All India Institute of Medical Sciences – New Delhi
  • Post Graduate Institute of Medical Education and Research- Chandigarh
  • Christian Medical College- Vellore
  • Kasturba Medical College- Manipal
  • King George`s Medical University- Lucknow
  • Jawaharlal Institute of Post Graduate Medical Education & Research- Pondicherry
  • Banaras Hindu University- Varanasi
  • Institute of Liver and Biliary Sciences- Delhi
  • Aligarh Muslim University- Aligarh
  • Sri Ramachandra Medical College and Research Institute - Chennai

MBBS का सिलेबस

आजकल MBBS के सिलेबस में थोड़ा बदलाव किया गया है। अब के नए सिलेबस के मुताबिक ग्रेजुएशन में स्टूडेंट्स को मास्टर लेवल के भी सब्जेक्ट्स पढ़ाएं जाते हैं ताकि सिर्फ MBBS ही करने के बाद स्टूडेंट पूरी तरह से डॉक्टर बनने के लिए तैयार हो सकें।

इसके सिलेबस में स्टूडेंट्स को थ्योरी तो कराई ही जाती है साथ ही प्रैक्टिकल्स पर भी पूरा ध्यान दिया जाता है।

  • समेस्टर 1-2 (Pre-Clinical): Anatomy, Biochemistry, Physiology
  • सेमेस्टर 3-5 (Para- Clinical): Semesters Community Medicine; Forensic Medicine, Pathology, Pharmacology, Microbiology, Clinical postings in wards, OPD
  • सेमेस्टर 6-9 (Clinical): Community Medicine, Medicine and allied subjects (Psychiatry, Dermatology); Obst. Gynae: Pediatrics; Surgery and allied subjects (Anesthesiology, E.N.T., Ophthalmology, Orthopedics); Clinical postings

MBBS की तैयारी कैसे करें

MBBS में एडमिशन लेने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है। आपको बहुत पढ़ाई करनी पड़ती है। हम आपको कुछ ऐसी टिप्स देंगे जिससे आप खुद को एंट्रेस एग्जाम के लिए तैयार कर सकें।

  • सबसे पहले ज़रूरी है कि आप अपना एक टाइम टेबल सेट करें।
  • एंट्रेस एग्जाम क्लियर करने के लिए सिर्फ बॉयो पर ही ध्यान नहीं देना होता बल्कि Physics, chemistry भी उतनी ही ज़रूरी है।
  • एंट्रेस एग्जाम क्लियर करने के लिए PCB में से आपकी किन्हीं दो सब्जेक्ट्स पर पकड़ बहुत अच्छी होनी चाहिए।
  • पुराने Question papers सॉल्व करने की कोशिश करें।
  • आप कोई भी टॉपिक पढ़ें तो सुनिश्चित करें कि आपको उस टॉपिक के basics क्लियर हो। सिर्फ रट्टा न मारें।
  • आजकल तो इंटरनेट पर काफी सारे लेक्चर्स एवेलेबल होते हैं जहां एंट्रेस एग्जाम्स क्लियर कराने के लिए पढ़ाई कराई जाती है।
  • अपनी 11वीं, 12वीं की पाठ्यपुस्तक से पढ़ाई करने के साथ साथ एडिशनल बुक्स भी पढ़ें।
  • आप चाहें तो कोचिंग भी ले सकते हैं।

MBBS करने के बाद क्या करे?

MBBS करने के बाद आप चाहें तो आगे मास्टर डिग्री के लिए अप्लाई कर सकते हैं और अपनी आगे की पढ़ाई जारी रख सकते हैं। इसके अलावा किसी सरकारी या प्राइवेट अस्पताल में जॉब कर सकते हैं या फिर अपना खुद का क्लीनिक सेटअप कर सकते हैं। Higher studies करने के बाद आप मेडिकल कॉलेज में लेक्चरर या प्रोफेसर का पद भी हासिल कर सकते हैं।

Conclusion,

दोस्तों, इस आर्टिकल में मैंने आपको MBBS से जुड़ी हर जानकारी देने की कोशिश की है। मैंने इसमें आपको MBBS क्या है, कैसे करते हैं जैसी अहम बातें तो बताई ही हैं। साथ ही आप MBBS में कौन-से सब्जेक्ट्स पढ़ते हैं और एंट्रेस एग्जाम की तैयारी कैसे करनी चाहिए, वो टिप्स भी दिए हैं।

ये भी पढ़े,

आप अपने बजट के हिसाब से MBBS के कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं। उम्मीद है कि ये पोस्ट आपके बेहद काम आएगी। इसे अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करें।

Avatar for भावना गुप्ता

मैं भावना पेशे से एक न्यूज़ रिपोर्टर हु, साथ ही मुझे लिखने का भी शौक है। इस ब्लॉग पर मैं Howto, हेल्थ और एजुकेशन वाले आर्टिकल शेयर करती हु।

Comments ( 12 )

  1. Very motivate lines thankyou so much .......❤️❤️

    Reply
  2. Bhut hi badiya jankakri, thanks

    Reply

Leave a Comment

×