डीजीपी (DGP) क्या होता है और कैसे बने?

डीजीपी का का पद पुलिश विभाग में एक बहुत बड़ा पद होता है। केवल आईपीएस (IPS) किया हुआ व्यक्ति ही डीजीपी बनने के योग्य होता है। आज के इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में जानेंगे कि ये DGP क्या होता है और एक डीजीपी ऑफिसर कैसे बने, डीजीपी की योग्यता और सैलरी कितनी होती है, इसके क्या अधिकार होते है और ये किस कानून व्यवस्था को देखता है/देखती है? इन सभी सवालो के जवाब आपको इस पोस्ट में मिल जायेंगे। तो चलो जानते है, What is DGP in Hindi - पूरी जानकारी हिंदी में!

डीजीपी (DGP) क्या होता है और कैसे बने?

हर किसी की इच्छा होती है कि वह अपने जीवन में ऐसा मुकाम हासिल करें, डीजीपी का पद भी उन्हीं में से एक के रूप में माना जाता है। डीजीपी का पद पुलिस विभाग का सबसे शीर्ष पद माना जाता है।

यदि आप भी डीजीपी पद पर नौकरी करना चाहते हैं तो आगे हम आपको बताएंगे कि डीजीपी क्या होता है। डीजीपी कैसे बने और डीजीपी के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए, डीजीपी को किस तरह की जिम्मेदारियां दी जाती है।

तो आईये जानते है, DGP kya hai, DGP kya hota hai, DGP kaise bane, DGP Officer ki salary kitni hoti hai, D.G.P. officer ka kaam kya hota hai?

डीजीपी क्या होता है? (What is DGP in Hindi)

DGP की full form है डायरेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस (Director general of police), इसे हिंदी में "पुलिस महानिदेशक" कहते है। यह एक ऐसा पद है जो पुलिस विभाग में सबसे ऊपर माना जाता है।

डीजीपी पद की सबसे खास बात ये है कि यह पद केवल उन्हीं लोगों को मिलता है, जो व्यक्ति आईपीएस किया हो, केवल उसी को इस के योग्य माना जाता है।

यानि डीजीपी का चुनाव भारतीय पुलिस सेवा यानि आईपीएस (IPS) की परीक्षा द्वारा ही किया जाता है। डीजीपी के पद में अधिकारी को सम्मान और अच्छी सैलरी भी मिलती है।

इसके अलावा डीजीपी ही वह व्यक्ति होता है जो अपने पास मिले अधिकारों का उपयोग करके अपने क्षेत्र में कानून व्यवस्था को पूरी तरह से बनाए रखने की जिम्मेदारी लेता है।

पुलिस विभाग में एक डीजीपी अधिकारी को राज्य में कैबिनेट मंत्री के बराबर का दर्जा प्राप्त होता है। देश के प्रत्येक राज्य में डीजीपी की नियुक्ति पुलिस हेड के रूप में की जाती है।

डीजीपी (DGP) कैसे बने? (How to become DGP in Hindi)

डीजीपी (Director general of police) का पद इतना ऊंचा होता है कि इसे हासिल करने के लिए एक व्यक्ति को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। आईपीएस की परीक्षा में शामिल होने वाले अधिकारी का चयन डीजीपी पद के लिए किया जाता है।

उसकी काबिलियत को देखते हुए उन्हें यह सम्मान भरा पद प्राप्त होता है। लकिन इसके लिए एक अधिकारी को काफी लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

सबसे पहले आईपीएस का पद प्राप्त करने वाले अधिकारी को डीएसपी पद पर नियुक्त किया जाता है। फिर उसे एएसपी बनाया जाता है। फिर उनका चयन एसपी और एसएसपी के लिए किया जाता है।

इन सब प्रक्रियाओं के बाद उस अधिकारी को डीआईजीपी (DIGP) का पद और फिर आईजीपी (IGP) का पद प्राप्त होता है। फिर उसके बाद आखिर में पूरी तरह से उस व्यक्ति की काबिलियत को देखते हुए अधिकारी को डीआईजी (DIG) पद पर नियुक्ति दी जाती है।

डीजीपी बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए (Qualification for DGP)

डीजीपी (DGP) बनने के लिए किसी भी व्यक्ति को ग्रेजुएट होना आवश्यक है अन्यथा वह इसके लिए योग्य नहीं माना जाता है। वहीं डीजीपी के लिए आपको यूपीएससी की परीक्षा से होकर गुजरना पड़ता है।

यूपीएससी की परीक्षा के तहत आप आईएएस, आईपीएस, डीजीपी तथा अन्य पदों के लिए योग्य बनते हैं।इन एग्जाम को क्लियर करने के बाद ही आप एक DGP ऑफिसर बन सकते है।

डीजीपी को कितनी वेतन मिलती है (Salary of DGP)

पुलिस विभाग में सबसे शीर्ष पद पर कार्यरत डीजीपी की सैलरी भी काफी ज्यादा होती है। वही आपको बता दें कि डीजीपी यानी कि पुलिस महानिदेशक को 56,000 से लेकर ₹2,25,000 सहित ग्रेड पे प्रति माह तक वेतन उपलब्ध कराया जाता है।

डीजीपी के वेतन के साथ ही साथ अधिकारी को बहुत सारी जिम्मेदारियां भी संभालनी पड़ती है।

डीजीपी के लिए कौनसी परीक्षा होती है (Exam for DGP)

आपको डीजीपी (Director general of police) बनने के लिए सबसे पहले यूपीएससी में अपीयर होना पड़ता है। जिसके लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना अनिवार्य है।

तभी आप इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं। यदि आप इस परीक्षा में अच्छे अंक के साथ सफल होते हैं तो उस व्यक्ति को आईपीएस अधिकारी बनाया जाता है।

फिर कुछ समय के बाद आपकी काबिलियत, अचीवमेंट और कार्यक्षमता को देखते हुए अधिकारी का प्रमोशन किया जाता है और फिर प्रमोशन के बाद आप डीजीपी यानी कि पुलिस महानिदेशक के लिए अपने आप को योग्य बना पाते हैं।

डीजीपी के लिए आयु सीमा क्या है? (Age limitations for DGP)

डीजीपी अधिकारी के लिए कुछ आयु सीमा तय की गई है, केवल नियम के अंदर उम्र वाले लोग ही इस पद को हासिल कर सकते है। जिसके आधार पर डीजीपी के लिए आवेदन करने वाले की आयु सीमा कुछ इस प्रकार से है।

  • जनरल कैटेगरी की आयु सीमा न्यूनतम 21 वर्ष और अधिकतम 30 वर्ष की आयु अनिवार्य रखी गई है।
  • ओबीसी केटेगरी के लिए आयु सीमा में 3 वर्ष की छूट दी गई है।
  • वही एससी/ एसटी वर्ग के लोगों को आयु सीमा के रूप में 5 साल की छूट दी गई है।

डीजीपी का कार्य क्या होता है (Work of DGP)

आपने ऊपर देखा कि डीजीपी की सैलरी कितना ज्यादा है लेकिन उनका काम भी बहुत ज्यादा होता है। आईये हम आपको थोडा विस्तार में बताते है कि DGP क्या काम करता है।

  • जिस राज्य में डीजीपी तैनाती होती है उस राज्य को लेकर डीजीपी की है जिम्मेदारी होती है कि अपने राज्य में शांति व्यवस्था और कानून व्यवस्था पूरी तरह से कायम रखें।
  • राज्य में कानून व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने और उस पर निगरानी रखने का कार्य डीजीपी का होता है।
  • अपने अधिकारों का उपयोग करते हुए एक डीजीपी राज्य सरकार के साथ मिलकर राज्य के कार्यों में प्रोत्साहन करता है।
  • एक डीजीपी के अंतर्गत ही सारा पुलिस डिपार्टमेंट कार्य करता है।

हमने आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताया है कि डीजीपी क्या है और डीजीपी कैसे बन सकते है? (What is DGP in Hindi) उम्मीद है कि आपको पूरी तरह से जानकारी प्राप्त हो गयी होगी।

यहाँ हमने विस्तार रूप से डीजीपी की व्याख्या की है कि डीजीपी पुलिस विभाग का सबसे उंचा पद माना जाता है, जिसके अंतर्गत सारा पुलिस डिपार्टमेंट काम करता है।

ये भी पढ़े,

अगर आपको इस पोस्ट में शेयर की गयी जानकारी पसंद आए तो इसे अन्य स्टूडेंट के साथ शेयर जरुर करे।

Avatar for निशु राज

मेरा नाम निशु है और मैं एक कंटेंट राइटर हु। मैं एजुकेशन, मनोरंजन, दैनिक जीवन, रिश्ते और स्वास्थ्य जैसे टॉपिक पर लिखना पसंद करती हूँ।

Leave a Comment

×