योग क्या है और इसके क्या-क्या फायदे है? What is Yoga in Hindi

What is Yoga in Hindi: योग, सिर्फ आसन नहीं बल्कि एक ऐसी भारतीय संस्कृति है जो आपको शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखती है। ये भारतीय ज्ञान की पांच हजार साल पुरानी शैली है। इससे हमें कई बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है। अक्सर ज़िदंगी की रेस में आगे बढ़ने के चक्कर में हम लोग अपनी सेहत का ख़्याल रखना ही भूल जाते हैं। बहुत ही कम लोग होते हैं जो नियमित रूप से योगा करते हैं।

योग क्या है और इसके क्या-क्या फायदे है?

फिटनेस के लिए हम जिम जाते हैं, वहां बहुत सारी मशीनों के इस्तेमाल से शरीर को फिट रखने की कोशिश करते हैं। इसके अलावा जिम में काफी सारा पैसा भी खर्च कर देते हैं लेकिन योगा पर ध्यान नहीं देते।

एक शोध से पता चला है कि 70 फीसदी युवा योग की बजाए जिम ज्वॉइन करते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि योग एक धीमा प्रोसेस है। शायद ये लोग योग के फायदों से अनजान हैं।

योग कसरत से कही बेहतर है। आज के इस आर्टिकल में हम इसी के बारे में बात करेंगे कि Yoga kya hai aur iske kya-kya benefits hai?

योग क्या है - What is Yoga in Hindi

योग एक ऐसी आध्यात्मिक प्रकिया हैं जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने (योग) का काम होता है। यह शब्द, हिन्दू धर्म, जैन धर्म और बौद्ध धर्म में ध्यान प्रक्रिया से सम्बन्धित है।

योग संस्कृत के शब्द युज से बना है, जिसका अर्थ होता है जुड़ना यानि बांधना। योग अब भारत से बौद्ध धर्म के साथ चीन, जापान, तिब्बत, दक्षिण पूर्व एशिया और श्रीलंका में भी फैल गया है और इस समय सारे सभ्य जगत्‌ में लोग इससे परिचित हैं।

इसे अब इतनी प्रसिद्धि मिल गयी है कि 11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने प्रत्येक वर्ष 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाने की मान्यता दी है।

योग, धर्म और आस्था से परे एक विज्ञान है। जिसे सभी लोगों को अपने जीवन में शामिल करना चाहिए। यह हमारे जीवन से जुड़े सभी भौतिक, सामाजिक, आध्यात्मिक, आत्मिक, भावनात्मक सभी पहुलओं पर काम करता है।

ये आपको शरीर और मन के तालमेल को बनाने का ज़रिए है। अगर आप नियमित रूप से योग करते हैं तो इससे आपको कई सारे फायदे मिलते हैं।

योग कैसे करे - How to do Yoga in Hindi

सुबह सूर्योदय से पहले एक से दो घंटे योग के लिए सबसे अच्छा समय है। अगर सुबह आपके लिए मुमकिन ना हो तो सूर्यास्त के समय भी कर सकते हैं। लेकिन सुबह इ समय योग करना ज्यादा बेहतर होता है।

योग करते समय निम्न बातों का ख़ास ध्यान रखें:

  • दिन का कोई समय योग के लिए निर्धारित कर लें, यह उत्तम होगा।
  • सभीआसन किसी योगा मैट या दरी बिछा कर ही करें।
  • आप योग किसी खुली जगह जैसे पार्क में कर सकते हैं, या घर पर भी।
  • बस इतना ध्यान रहे की जगह ऐसी हो जहाँ आप खुल कल साँस ले सकें।

इसके अलावा योग करने के लिए आपको इसके नियमो की अच्छी जानकारी होनी चाहिए, ताकि आप गलत तरीके से yoga करके अपना नुकसान ना कर लें।

योग के नियम - Rules of Yoga in Hindi

जब आप अपनी दिनचर्या में योग को शामिल करते हैं तो आपको कुछ नियमों का ध्यान रखना पड़ता है। अगर आप इन कुछ सरल नियमों का पालन करेंगे, तो अवश्य ही आपको योग अभ्यास का पूरा लाभ मिलेगा।

  • खुद गलत योगाभ्यास करने की बजाए किसी निर्देशक का सहारा लें।
  • योग को हमेशा सूर्योदय या सूर्यास्त के समय ही करना चाहिए।
  • हमेशा आरामदायक कपड़े पहनकर ही योग करें।
  • योग करने से पहले नहाएं।
  • खाली पेट योग करें।
  • योग अभ्यास धैर्य और दृढ़ता से करें।
  • योग करने के बाद 30 मिनट तक कुछ न खाएं।
  • योग करने के 1 घंटे के बाद नहाएं।
  • योग करने के बाद अंत में हमेशा श्वासन करें।
  • योग हमेशा साफ जगह पर ही करें।
  • अपने शरीर के साथ ज़बरदस्ती बिल्कुल ना करें।
  • अगर आपको कोई मेडिकल तकलीफ है तो डॉक्टर से सलाह लें।

योग के प्रकार - Types of Yoga in Hindi

योग कई प्योरकार का होता है लेकिन मुख्यता योग के 4 प्रमुख प्रकार या रास्ते होते हैं, जो कि निम्न प्रकार है।

1. राज योग

राज का अर्थ शाही है और योग की इस शाखा का सबसे अधिक महत्वपूर्ण अंग है ध्यान। इस योग के आठ अंग है, जिस कारण से पतंजलि ने इसका नाम रखा था अष्टांग योग।

इसे योग सूत्र में पतंजलि ने उल्लिखित किया है। यह 8 अंग इस प्रकार है,

यम (शपथ लेना), नियम (आचरण का नियम या आत्म-अनुशासन), आसन, प्राणायाम (श्वास नियंत्रण), प्रत्याहार (इंद्रियों का नियंत्रण), धारण (एकाग्रता), ध्यान (मेडिटेशन), और समाधि (परमानंद या अंतिम मुक्ति)।

2. कर्म योग

अगली शाखा कर्म योग या सेवा का मार्ग है और हम में से कोई भी इस मार्ग से नहीं बच सकता है। कर्म योग का सिद्धांत यह है कि जो आज हम अनुभव करते हैं वह हमारे कार्यों द्वारा अतीत में बनाया गया है।

इस बारे में जागरूक होने से हम वर्तमान को अच्छा भविष्य बनाने का एक रास्ता बना सकते हैं, जो हमें नकारात्मकता और स्वार्थ से बाध्य होने से मुक्त करता है। जब भी हम अपना काम करते हैं और अपना जीवन निस्वार्थ रूप में जीते हैं और दूसरों की सेवा करते हैं, इस तरह से हम कर्म योग करते हैं।

3. भक्ति योग

भक्ति योग भक्ति के मार्ग का वर्णन करता है। सभी के लिए सृष्टि में परमात्मा को देखकर, भक्ति योग भावनाओं को नियंत्रित करने का एक सकारात्मक तरीका है। भक्ति का मार्ग हमें सभी के लिए स्वीकार्यता और सहिष्णुता पैदा करने का अवसर प्रदान करता है।

4. ज्ञान योग

अगर हम भक्ति को मन का योग मानते हैं, तो ज्ञान योग बुद्धि का योग है। इस पथ पर चलने के लिए योग के ग्रंथों और ग्रंथों के अध्ययन के माध्यम से बुद्धि के विकास की आवश्यकता होती है।

इस ज्ञान योग को सबसे कठिन माना जाता है। इसमें गंभीर अध्ययन करना होता है और ये उन लोगों को आकर्षित करता है जो बौद्धिक रूप से इच्छुक होते हैं।

ये थी योग क्या है, योग कैसे करे, योग के नियम इत्यादि की जानकारी, चलिए अब हम आपको बताएंगे कि सिर्फ 15 मिनट योग करने से आपकी ज़िंदगी कैसे बदल सकती है।

योग के फायदे - Benefits of Yoga in Hindi

Yoga करने के बहुत से फायदे है, जहाँ जिम करने से सिर्फ हमारा शरीर फिट रहता है वोही योग हमे तन के साथ मन से भी मजबूत बनाता है, योग के निम्न benefit है।

1) मन की शांति

योग से हमारे शरीर की मांसपेशियों का तो अच्छा व्यायाम होता ही है साथ ही इससे हमे मन को शांत रखने में भी मदद मिलती है। चिकित्सा शोधों ने ये साबित कर दिया है की योग शारीरिक और मानसिक रूप से वरदान है।

योग से तनाव दूर होता है और अच्छी नींद आती है, भूख अच्छी लगती है, इतना ही नहीं पाचन भी सही रहता है। इससे मन हमेशा शांत बना रहता है।

2) तनाव मुक्त जीवन

अगर आप अपनी दिनचर्या में योग को शामिल करते हैं तो एक तनाव मुक्त जीवन पा सकते हैं। स्टडीज कहती हैं कि आज हर दूसरा व्यक्ति तनाव में रहता है।

तनाव के कारण हम कई सारी बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। इसीलिए योग आपको स्ट्रेस फ्री बनाता है। आपको मन की शांति मिलती है अच्छी नींद आती है, डाइजेशन सही रहता है।

3) शरीर की थकान मिटती है

जब हम योग करते हैं तो इसमें मांसपेशियां तनने, सिकोड़ने, ऐंठने और खिंचाव जैसे कई क्रियाएं होती है। इससे हमारे शरीर की थकान मिटती है और हम हर वक्त तरोताज़ा महसूस करते हैं। अगर आप नियमित रूप से योग करेंगे तो आपके शरीर में एनर्जी बनी रहेगी।

4) रोग मुक्त शरीर

योग से शरीर निरोग बनता है, क्युकी इससे हमें बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है। बहुत सी बीमारियों में जैसे दिल की बीमारी, डायबिटीज और अस्थमा जैसी बीमारियों में योग करने की सलाह भी दी जाती है।

योग से ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल होता है और सांस संबंधी विकार भी जड़ से खत्म हो जाते हैं। इसीलिए आप हर रोज योग करते हैं तो आप स्वस्थ रहेंगे।

5) वजन नियंत्रण

दुनिया में 70 फीसदी लोग मोटापे के शिकार हैं। लेकिन हम योग को अपनी जीवनशैली में शामिल कर मोटापे पर कंट्रोल कर सकते हैं। योग करने से शरीर लचीला होता है।

ये हमारी मांसपेशियों को मज़बूत बनाता है और शरीर से एक्स्ट्रा फैट को कम करता है। साथ ही हमारे पाचन तंत्र को भी मज़बूत बनाता है। Fitness के लयी योग बहुत ही अच्छा तरीका है।

6) हमेशा रहेंगे जवान

योग न सिर्फ आपको चेहरे पर ग्लो लाता है बल्कि हमेशा आपको जवां रहने में भी मदद करता है क्योंकि योगासनों से शरीर के अंदर की ग्रंथियां अपना काम ढंग से करती है।

7) ऊर्जावान रहेगा शरीर

हमारी बिजी लाइफ में हर दिन हम कई सारी परेशानियों का सामना करते हैं। काम का स्ट्रेस होने के कारण हम शरीर और मन दोनों से थक जाते हैं। शरीर की ऊर्जा जैसे ख़त्म हो जाती है।

लेकिन आप अपनी जीवनशैली में योग को अपनाते हैं तो आप खुद को ऊर्जावान महसूस करेंगे। ऐसे बहुत से लोग है जो योग करते है और बुढ़ापे में भी जवान नज़र आते है।

8) संबंधों में सुधार

योग द्वारा हमारे अपने आत्मीय जनों से सम्बन्ध सुधर जाते हैं। एक मन जो चिंतामुक्त, प्रसन्न अवं संतुष्ट हैं, वह संबंधों को अच्छा निभाता हैं। योग और ध्यान मन को प्रसन्नता और शांति देते हैं। ये हमे आत्मीयजनों से सुन्दर सम्बन्ध बनाने की क्षमता प्रदान करता है।

9) ब्लड शुगर लेवल करे कंट्रोल

योग से आप अपने ब्लड शुगर लेवल को भी कंट्रोल कर सकते है और बढ़े हुए ब्लड शुगर लेवल को घटा सकते है। डायबिटीज रोगियों के लिए योग बेहद फायदेमंद है। साथ ही ये LDL या बैड कोलेस्ट्रोल को भी कम करता है।

10. अधिक सजगता संग जीना

मन संयुक्त रूप से भूत और भविष्य में झकझोरे मारता रहता हैं लेकिन कभी वर्तमान में नहीं ठहरता। साधारण रूप मे मन की स्तिथि में सजगता हमे तनाव से मुक्त करती हैं।

ये मन को शांति प्रदान कर कार्य क्षमता बढ़ाती हैं। योग तथा प्राणायाम मन को वर्तमान समय में लातें हैं, इससे हम प्रसन्न और लक्ष्य की ओर केंद्रित होते हैं।

निष्कर्ष,

इस आर्टिकल में हमने जाना की योग क्या है, योग कैसे करे, योग के नियम, योग के प्रकार और योग के फायदे। उम्मीद है आपको अब Yoga की पूरी जानकारी मिल गयी होगी।

योग वाकई में बहुत कमाल की चीज़ है जो हमे ख़ुशी से जीवन जीने के साथ लम्बी उम्र प्रदान करता है। अपने आपको स्वस्थ रखने के लिए हम सभी को योगाभ्यास करते रहना चाहिए।

ये भी पढ़ें,

अगर आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी अच्छी लगे तो इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर जरुर करें।

Avatar for भावना गुप्ता

मैं भावना पेशे से एक न्यूज़ रिपोर्टर हु, साथ ही मुझे लिखने का भी शौक है। इस ब्लॉग पर मैं Howto, हेल्थ और एजुकेशन वाले आर्टिकल शेयर करती हु।

Comments ( 1 )

  1. सच्ची में ... आपने बहुत अच्छी तरह लिखा हुआ है योग के बारे में.

    अब पूरी तरह समझ मे आया कि योग क्यों करनी चाहिए।

    धन्यवाद ...

    Reply

Leave a Comment

×