अंबेडकर जयंती पर निबंध 2022 - Essay on Ambedkar Jayanti in Hindi

अंबेडकर जयंती प्रत्येक वर्ष 14 अप्रैल को मनाई जाती है। अंबेडकर जयंती (Ambedkar Jayanti) भारतीय लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। यह डॉ भीमराव अंबेडकर का जन्मदिन है।  बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर एक भारतीय राजनीतिज्ञ और अर्थशास्त्री थे जिन्होंने भारत के संविधान के निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके योगदान को याद करने और उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए ही उनका जन्मदिन १४ अप्रैल अंबेडकर जयंती सार्वजनिक अवकाश के रूप में मनाया जाता है।

Ambedkar Jayanti in Hindi

अंबेडकर जयंती पर निबंध: (शब्द 170) डॉ। भीमराव रामजी अम्बेडकर को डॉ। बाबासाहेब अम्बेडकर के नाम से जाना जाता था। उनका जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के महू गाँव में हुआ था। उनका परिवार हिन्दू महर जाति का अछूत माना जाता था। उन्हें समाजशास्त्र और स्कूल में भी छुआछूत का सामना करना पड़ा।

डॉ। अम्बेडकर ने 1907 में अपनी मैट्रिक पास की। उन्होंने अमेरिका में कोलम्बिया विनिवर्सिटी से M.A और Ph.d पूरा किया और इंग्लैंड में कानून की पढ़ाई की।

वह एक भारतीय न्यायविद, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाज सुधारक थे। उन्होंने दलितों के आंदोलन को प्रेरित किया और दलितों के अधिकारों के लिए काम किया। वह हमेशा अछूतों और अन्य निचली जातियों की समानता के लिए खड़ा था।

उन्होंने शिक्षा के महत्व को महसूस किया और पिछड़े वर्गों को शिक्षित होने के लिए प्रेरित किया।

उन्होंने भारतीय संविधान को तैयार करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसलिए उन्हें 'भारतीय संविधान का पिता' कहा जाता है।

डॉ। अम्बेडकर ने 6 दिसम्बर 1956 को इस दुनिया को छोड़ दिया। लेकिन भारत के लिए उन्होंने जो महान कार्य किए, वे हमेशा देश द्वारा याद किए जाएंगे।

डॉ भीमराव अंबेडकर जयंती पर निबंध/ भाषण (शब्द 160) Ambedkar Jayanti

अंबेडकर जयंती हर साल 14 अप्रैल को मनाई जाती है। इसे ज्ञान दिवस (knowledge day) के रूप में भी जाना जाता है।

डॉ। भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को इंदौर, मध्य प्रदेश में स्थित महू गाँव में हुआ था। उनका जन्म एक अछूत परिवार में हुआ था। उन्हें बचपन से ही नस्लवाद और दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ा।

इसके लिए उन्होंने संघर्ष भी किया। उन्होंने दलितों पर अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाई। और दलितों / अछूतों की स्थिति को बदलने में मदद की।

उनका जन्मदिन उनकी जाति के लोगों द्वारा बहुत खुशी के साथ मनाया जाता है।

वे एक महान विद्वान, राष्ट्रवादी और अर्थशास्त्री थे। उन्होंने भारत के संविधान के निर्माण में एक प्रमुख भूमिका निभाई।

उनका जन्मदिन 14 अप्रैल भारत में सार्वजनिक अवकाश के रूप में मनाया जाता है। इस दिन विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। भीमराव जी को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

वह महान राजनीतिक नेताओं में से एक थे। लोग आज भी उन्हें अपना आदर्श मानते हैं।

बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर जयन्ती पर निबंध हिंदी में (शब्द 150)

हर साल की तरह इस साल भी 14 अप्रैल को बाबासाहेब डॉ। भीमराव अंबेडकर की याद में अंबेडकर जयंती पूरे भारत में मनाई जाएगी।

इस दिन विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस त्यौहार को मनाने के लिए, कई दिनों पहले से तैयारियाँ की जाती हैं। इस साल, 2022 में अंबेडकर की 130 वीं जयंती मनाई जाएगी।

डॉ। भीमराव अम्बेडकर के जन्मदिन को मनाने और उनके योगदान को याद करने के लिए भारत में अम्बेडकर जयंती मनाई जाती है।

उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए एक विशेष उत्सव का आयोजन किया जाता है। डॉ। अंबेडकर का जन्मदिन भारत के लोगों के लिए बहुत खास है।

उनके जन्मदिन को पूरे भारत में सार्वजनिक अवकाश के रूप में घोषित किया गया था। इस दिन देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री उन्हें श्रद्धांजलि देते हैं। भारतीय उनकी पूजा करते हैं।

विद्यार्थियों के लिए अंबेडकर जयंती पर निबंध (शब्द 140)

अम्बेडकर जयंती क्यों मनाई जाती है: अंबेडकर जयंती को भारत में अंबेडकर के योगदान को याद करने के लिए मनाया जाता है।

उन्होंने भारत के संविधान के निर्माण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जिसके लिए उन्हें भारतीय संविधान के पिता के रूप में जाना जाता है।

डॉ। भीमराब ने भारत में निम्न स्तर के समूह के लोगों की स्थिति में सुधार करने के लिए काम किया और उन्हें शिक्षा का महत्व समझाया।

उन्हें भारतीय समाज के लिए महत्वपूर्ण भूमिका के लिए अप्रैल 1990 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

उनके जन्मदिन को सार्वजनिक अवकाश (अम्बेडकर जयंती) के रूप में मनाया जाता है ताकि उनके योगदान को याद किया जा सके और भारतीय नई पीढ़ी को उनके बारे में बताया जा सके और डॉ भीमराव अंबेडकर को श्रद्धांजलि दी जा सके।

इस आर्टिकल के माध्यम से विद्यार्थी अंबेडकर जयंती के अवसर के लिए निबंध व् भाषण तैयार कर सकते हैं। विद्यार्थियों के अलावा सभी भारतियों के लिए भी यह लेख सहायक हैं क्योंकि इसे पढ़ने के बाद उन्हें डॉ भीमराव अंबेडकर जयंती के बारे में नॉलेज प्राप्त होगी।

यह भी पढ़ें:

यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आए और उपयोगी लगे तो सोशल मीडिया पर शेयर करें ताकि कोई और भी अंबेडकर जयंती के बारे में जान सके।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Comments ( 1 )

  1. D.r Br Ambedkar Ji ke bare me jankari dene ke liye Dhanywad

    Reply

Leave a Comment

×