Hanuman Chalisa in Hindi: श्री हनुमान चालीसा हिन्दी में

हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का शाब्दिक अर्थ है हनुमान पर चालीस चौपाइयाँ। भगवान हनुमान को संबोधित एक हिंदू भक्ति भजन है। यह माना जाता है कि यह 16 वीं शताब्दी के कवि तुलसीदास द्वारा अवधी भाषा में लिखा गया है और यह रामचरितमानस कथा के अलावा उनका सबसे अच्छा ज्ञात पाठ है। हनुमान चालीसा गोस्वामी तुलसीदास की महान काव्य रचनाओं में से एक है। हनुमान चालीसा हिंदू धर्म में एक विशेष स्थान और महत्व रखती है। यहाँ हम हनुमान जी के सच्चे भक्तों के लिए "श्री हनुमान चालीसा पाठ हिंदी में" लेकर आये हैं। Hnuman Ji Ka Chalisa, Shree Hanuman Chalisa in Hindi Lyrics.

Shree Hanuman Chalisa Hindi

ऐसा माना जाता है कि हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa in Hindi) का पाठ करना बहुत शक्तिशाली है क्योंकि यह सती के प्रभाव को कम करने में मदद करता है, और अच्छे स्वास्थ्य और समृद्धि भी लाता है।

इसके अलावा, हनुमान चालीसा का पाठ भी आत्माओं को दूर करने में मदद कर सकता है। हनुमान चालीसा का पाठ करने का सबसे अच्छा समय सुबह और रात में है।

  • श्री हनुमान चालीसा पाठ अर्थ सहित

कहा जाता है कि हनुमान चालीसा का पाठ करने से कोई भी भगवान हनुमान को प्रसन्न कर सकता है और उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकता है। तो आईए जानते हैं hanuman chalisa in hindi pdf, image, lyrics के बारे में।

श्री हनुमान चालीसा पाठ लिरिक्स हिंदी - Shree Hanuman Chalisa in Hindi

हनुमान चालीसा (hanuman chalisa) का पाठ करने से भी शनि के बुरे प्रभावों पर काबू पाने में मदद मिलती है। हनुमान जी का भजन बुराईयों और आत्माओं से छुटकारा पाने में भी मदद करता हैं। श्री हनुमान चालीसा, हनुमान चालीसा पाठ हिंदी में, हनुमान जी का चालीसा भजन, जय हनुमान चालीसा, Shree Hanuman chalisa lyrics hindi, jay hanuman chalisa hindi mai.

 

हनुमान चालीसा हिंदी लिरिक्स

दोहा

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।

चौपाई

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर,
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।

रामदूत अतुलित बल धामा,
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।

महाबीर बिक्रम बजरंगी,
कुमति निवार सुमति के संगी।

कंचन बरन बिराज सुबेसा,
कानन कुंडल कुंचित केसा।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै,
कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन,
तेज प्रताप महा जग बन्दन।

विद्यावान गुनी अति चातुर,
राम काज करिबे को आतुर।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया,
राम लखन सीता मन बसिया।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा,
बिकट रूप धरि लंक जरावा।

भीम रूप धरि असुर संहारे,
रामचंद्र के काज संवारे।

लाय सजीवन लखन जियाये,
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई,
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं,
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा,
नारद सारद सहित अहीसा।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते,
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा,
राम मिलाय राज पद दीन्हा।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना,
लंकेस्वर भए सब जग जाना।

जुग सहस्र जोजन पर भानू,
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं,
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।

दुर्गम काज जगत के जेते,
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।

राम दुआरे तुम रखवारे,
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना,
तुम रक्षक काहू को डर ना।

आपन तेज सम्हारो आपै,
तीनों लोक हांक तें कांपै।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै,
महाबीर जब नाम सुनावै।

नासै रोग हरै सब पीरा,
जपत निरंतर हनुमत बीरा।

संकट तें हनुमान छुड़ावै,
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।

सब पर राम तपस्वी राजा,
तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै,
सोइ अमित जीवन फल पावै।

चारों जुग परताप तुम्हारा,
है परसिद्ध जगत उजियारा।

साधु-संत के तुम रखवारे,
असुर निकंदन राम दुलारे।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता,
अस बर दीन जानकी माता।

राम रसायन तुम्हरे पासा,
सदा रहो रघुपति के दासा।

तुम्हरे भजन राम को पावै,
जनम-जनम के दुख बिसरावै।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई,
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।

और देवता चित्त न धरई,
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।

संकट कटै मिटै सब पीरा,
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।

जै जै जै हनुमान गोसाईं,
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।

जो सत बार पाठ कर कोई,
छूटहि बंदि महा सुख होई।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा,
होय सिद्धि साखी गौरीसा।

तुलसीदास सदा हरि चेरा,
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।

दोहा

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।

हम सभी जाने-अनजाने में पाप करते हैं। आप Hanuman chalisa ka path करके क्षमा मांग सकते हैं। कम से कम 8 बार रात में हनुमान चालीसा के शुरुआती छंदों को याद करने से आपके द्वारा किए गए पापों को दूर करने में मदद मिलती है। Hanuman chalisa in hindi पढ़ने से भूत-प्रेत भाग जाते हैं, ऐसी हिन्दू धर्म कि मान्यता हैं।

यदि कोई रात में हनुमान चालीसा (hanuman chalisa in hindi) जपता है, तो वह भगवान हनुमान की दिव्य सुरक्षा प्राप्त करने में सक्षम होता है और उसकी सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं। हनुमान चालीसा परिवार के सदस्यों के मन और आत्मा से सभी प्रकार की नकारात्मकता को दूर करता है और परिवार के भीतर शांति और सद्भाव लाता है।

यह भी पढ़ें:

जो हनुमान जी के सच्चे भक्त है और Hanuman Ji को सच्चे दिल से चाहते है उनसे कहने की जरूरत नहीं है की Hanuman Chalisa in Hindi आगे भी शेयर करें।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Comments ( 1 )

  1. hanuman chalisha ke phayde bhi bata dete to dil khush ho jai sri ram

    Reply

Leave a Comment

×