उमर खय्याम के बारे में 10 दिलचस्प तथ्य

उमर खय्याम के बारे में रोचक तथ्य (Omar Khayyam Interesting Facts in Hindi): उमर खय्याम एक प्रसिद्ध गणितज्ञ, कवि, दार्शनिक और खगोलशास्त्री थे। वो 11वीं शताब्दी में "Saccheri quadrilateral" के बारे में सोचने वाले पहले गणितज्ञ थे। यहां हम आपको उमर खय्याम के बारे में 10 Interesting Facts बता रहे हैं। Interesting Facts about Omar Khayyam in Hindi.

Umar Khayyam Interesting Facts in Hindi

उमर खय्याम एक धार्मिक व्यक्ति थे। उनका जन्म 18 मई 1048 में हुआ था। वो खोरासन प्रांत के सबसे प्रसिद्ध विद्वानों में से एक थे। वहां वे Malik Shah I के सलाहकार के रूप में काम करते थे।

मलिक शाह की मृत्यु के बाद उन्होंने हज किया और 4 दिसंबर 11031 को उनकी मृत्यु हो गई। उन्हें खय्याम गार्डन में दफनाया गया था।

आज यानी 18 मई को उनके जन्मदिन पर गूगल ने डूडल बना कर उनको जन्मदिन की बधाई दी है। आज उमर खय्याम की 1971वीं जयंती है।

इस पोस्ट में हम आपको उमर खय्याम के काम और खैरियत से जुड़े रोचक तथ्य बता रे जा रहे हैं।

Omar Khayyam के बारे में 10 Interesting Facts

हालांकि उमर खय्याम के बारे में बहुत सारी बातें हैं बताने के लिए। लेकिन यहां पर हम सिर्फ 10 Interesting Facts की बात करेंगे।

उम्मर खय्याम इंटरेस्टिंग फैक्ट्स इन हिंदी, उमर खय्याम की कविता, उमर खय्याम की रुबाइयाँ, उमर खय्याम के रोचक तथ्य, Umar khayyam interesting facts, Interesting Facts of Umar Khayyam in Hindi.

  1. उमर खय्याम का जन्म 18 मई 1048 को ईरान के निशापुर में हुआ था। जहां वे चिकित्सा, खगोल विज्ञान और गणित पढ़ाते थे।
  2. उन्होंने गणित के लिए अपने जुनून को सम्मानित किया, एक बीज गणित और ज्यामिति शिक्षक के रूप में काम किया।
  3. उन्होंने हज यात्रा से लौटने के बाद कोर्ट ज्योतिषी के रूप में भी काम किया था।
  4. उन्होंने पास्कल के त्रिकोण और द्विपद गुणांक के त्रिकोणीय सनी सरणी बारे में पता लगाया।
  5. उनकी प्रसिद्ध रचनाओं में "बीजगणित के समस्याओं के प्रदर्शन पर ग्रंथ" शामिल है, जिसे उन्होंने 1070 में पूरा किया।
  6. उन्होंने संगीत और बीजगणित पर एक किताब "समसामयिक की अंकगणित" भी लिखी।
  7. उन्होंने एक प्रसिद्ध खगोल विज्ञानी और अविष्कार किया जलाली कैलेंडर अन्य कैलेंडर का आधार बन गया। इसे ग्रेगोरियन कैलेंडर की तुलना में अधिक से अधिक माना जाता है।
  8. उन्होंने 1077 में, non-euclidean geometry पर एक पुस्तक प्रकाशित की "Sharh ma ashkala min musadarat kitab Uqlidis" जिसका अर्थ है "यूक्लिड्स में कठिनाइयों का वर्णन" इसे बाद में अंग्रेजी में "On the Difficulties of Euclid's Definitions" नाम से ट्रांसलेट किया गया।
  9. इन सभी मील के पत्थरों के अलावा, उन्होंने अपने करघो के लिए भी काफी नाम कमाया था। उन्होंने 1000 से अधिक "Rubaiyat" या छंद लिखें।
  10. Edward Fitzgerald ने 1859 में अपने गम का अनुवाद किया, जिसे "Rubaiyat of Umar Khayyam" कहा जाता है। उनकी कविता तब तक लोकप्रिय हुई जब तक एडवर्ड फिट्सगेराल्ड ने उनका अध्ययन और अनुवाद नहीं किया।

यह 10 दिलचस्प बातें थी उमर खय्याम के बारे में, आपको इनके बारे में जानकर अच्छा लगा होगा। मैं उमर खय्याम के अविष्कारों, उनके दिए गए योगदान के लिए उन्हें धन्यवाद करता हूं।

मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि वो उमर खय्याम के जैसे लोग पैदा करते रहे, जिनसे हमें और हमारी इस दुनिया को कुछ नया सीखने और करने को मिलता रहे। आप सभी से भी मेरा यही निवेदन है।

यह भी पढ़ें,

अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

×