वसंत ऋतु पर निबंध - Spring Season Essay in Hindi

Spring Season Essay in Hindi: वसंत का मौसम भारत में सबसे सुखद मौसम और सभी मौसमों के राजा के रूप में जाना जाता है। वसंत वह मौसम है जो सर्दियों के बाद और गर्मियों के मौसम से पहले आता है। वसंत ऋतु की शुरुआत फरवरी के मध्य से अप्रैल के मध्य तक होती है। वसंत के मौसम के दौरान, दिन थोड़े लंबे हो जाते हैं और मौसम सुहावना हो जाता है। वसंत के मौसम के दौरान, विभिन्न फूल खिलते हैं और पर्यावरण को हरियाली और सुंदरता से आच्छादित करते हैं।

Spring Season Essay in Hindi

वसंत का मौसम भी पर्यटकों को पसंद आता है और मौसम बहुत सुहावना हो जाने के बाद से वे विभिन्न पर्यटन स्थलों का भ्रमण करते हैं। ठंड के मौसम की लंबी अवधि के बाद लोग हल्के कपड़े पहनना शुरू कर देते हैं। वसंत के मौसम के दौरान, बच्चों को पतंग उड़ाना पसंद है क्योंकि मौसम अच्छा होता है और धूप सुखद होती है।

वसंत का मौसम कोयल पक्षियों के आगमन का प्रतीक है जो मधुर और कोमल आवाज में गाता है। वसंत पंचमी, होली, शिवरात्रि आदि कुछ ऐसे त्योहार हैं जो वसंत के मौसम में मनाए जाते हैं। इस मौसम की सुंदरता और चारों ओर खुशियाँ मन को बहुत रचनात्मक बनाती हैं और शरीर को अभी शुरू करने के लिए ऊर्जा देती हैं पूरे आत्मविश्वास के साथ काम करती हैं।

वसंत का मौसम सबसे सुखद और रमणीय मौसम होता है। यह मौसम सर्दियों के मौसम के बाद आता है। भारत में, यह मध्य फरवरी से मध्य अप्रैल तक गिरता है। यह मौसम सर्दी के मौसम की ठंड से राहत दिलाता है। इस मौसम में तापमान मध्यम होता है।

वसंत ऋतु पर निबंध - Essay on Basant Ritu in Hindi, Essay on Spring Season in Hindi

वसंत ऋतू निबंध हिंदी में, बच्चों के लिए वसंत ऋतू पर निबंध, विद्यार्थियों के लिए वसंत ऋतू पर निबंध, Essay on basant ritu in hindi, Basant ritu par nibandh, Spring season essay in hindi, Spring Season in Hindi.

वसंत का मौसम फूलों और अच्छे मौसम का मौसम होता है। फूलों की मीठी गंध सभी दिशाओं में फैल जाती है। नए पत्ते पेड़ों से निकलते हैं और वे अपनी खोई हुई सुंदरता को वापस पा लेते हैं। प्रकृति बहुत सुंदर, हरे और रंगीन खिलने वाले ट्रेस और फूलों के साथ दिखती है। पक्षी ताज़गी महसूस करते हैं और अपनी मीठी आवाज में गाने गाते हैं।

लोग हल्के कपड़े पहनना शुरू करते हैं। बच्चे मौसम में पतंग उड़ाते हैं। यह होली, राम नवमी, बिहू, बासाखी आदि त्योहारों का मौसम है। इस मौसम को सभी मौसमों की रानी के रूप में भी जाना जाता है। वसंत का मौसम वर्ष का सबसे पसंदीदा मौसम है और सभी को पसंद आता है।

वसंत भारत में सबसे सुखद मौसम है। इस मौसम में प्रकृति हमें आनंद और आराम देती है। पेड़ एक बार फिर ताजे और प्यारे लगते हैं। वे अपनी खोई हुई पत्तियों को वापस पा लेते हैं। फूलों की कलियाँ नैट्रू के खूबसूरत नजारे को देखने के लिए झांकती हैं।

इस मौसम में पक्षी गीत गाते हैं। पक्षी हजार नोटों के साथ भगवान का शुक्रिया अदा करते हैं। फूल सभी दिशाओं में अपनी मीठी गंध फैलाते हैं। ठंडी हवा हमें खुले में आने के लिए आमंत्रित करती है।

वसंत वह मौसम है जिसमें प्रकृति की आवाज हर जगह सुनाई देती है। हम वसंत के निर्माता भगवान से प्रार्थना करते हैं। इस मौसम में सर्दियाँ के बाद हर कोई ख़ुशी महसूस करता है।

यह शीत के बाद आता है। भारत में फरवरी और मार्च में इसका आगमन होता है। इस मौसम में सर्दी और गर्मी दोनों नॉर्मल होते है। इसलिए इस मौसम को मौसमों का राजा भी कहा जाता है। यह मन को मोह लेने वाला मौसम होता है। इस मौसम में सभी फुल खिलते है। रंग-बिरंगे फूलों को देखकर आँखें संतुष्ट हो जाती है।

पेड़ो में नई पत्तियां आ जाती है जो पेड़ो की शोभा बड़ा देती है। खेतों में भी सरसों के फूलों से चार चाँद लग जाते है। इस मौसम में सभ जीवजंतु खुश नजर आते है। वसंत का मौसम सौंदर्य, उन्नति का प्रतीक है। वसंत के आगमन का प्रभाव प्रकृति पर ही नहीं मनुष्य पर भी पड़ता है। इस मौसम में चलने वाली हवा सभी के लिए अत्यंत लाभदायक होती है।

हालांकि यह मौसम ज्यादा दिनों के लिए नहीं रहता है लेकिन फिर भी लोगों को यह इतना भाता है की वे पूरी साल इसका इंतजार और गुणगान करते है। इस मौसम में पूरी प्रकृति बहुत सुंदर दिखाई देती है। इस मौसम में आपको अपने  चारों तरफ हरियाली ही हरियाली नजर आएगी जो आपके अंदर ताजगी भर देगी।

मतलब, पुरे जंगल में मंगल सी बहार छा जाती है, इस मौसम में खेत सोने जैसे चमकते है क्योंकि उनमें खड़ी फसलें पक चुकी होती है। वसंत के आते ही पक्षियों की चहचहाहट कानों में जोरों-शोरों से सुनाई पड़ती है। ऐसा महसूस होता है जैसे हम जन्नत में हो। सभी इस मौसम का बड़े प्यार से इंतजार करते है क्योंकि इस समय मौसम बहुत ही प्रिय, कोमल, शुशील, आकर्षक और मधुर हो जाता है।

जो हमें ताजगी देता है जिससे हमें थकान महसूस नहीं होती और हम खूब काम करते है। इस मौसम का जादू उन जगहों पर ज्यादा चलता है जहाँ पर ज्यादा पेड़, पहाड़, जंगल में फसलें रहती है। किसानों के चेहरों पर इस मौसम में रोनक छा जाती है। इस मौसम में हमारे चारों तरफ ख़ुशी और हरियाली होती है।

ऐसा लगता है जैसे यह मौसम प्रकृति का श्रंगार करने आता है। इस मौसम के आने से हर प्राणी हर्षोल्लास से भर जाता है। इस मौसम में सभी के स्वास्थ्य में उन्नति होती है। रातें भी दिन के जैसे चमकती है। वसंत ऋतू सभी के लिए ईश्वर का एक वरदान है। यह मौसम सुंदर, सुहावना, आकर्षक और मनमोहक होता है।

यह भी पढ़ें:

इसके आते ही प्रकृति का कण-कण प्रसन्नता से खिल उठता है। इस दौरान पूरी धरती हरियाली की चादर ओढ़े रहती है। वसंत ऋतू बड़ी सुहावनी होती है इसे ऋतुराज ( ऋतुओं का राजा) भी कहते है। इस मौसम में सब में प्रसन्नता और मस्ती छा जाती है। सभी का अंग-अंग खिल जाता है। यह सबसे अधिक सुंदर और आकर्षक मौसम होता है।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Leave a Comment

×