हिंदी दिवस पर भाषण - Hindi Diwas Speech in Hindi 2022

Hindi Diwas Speech: प्रत्येक वर्ष हिंदी को बढ़ावा देने के लिए 14 सितंबर को पुरे भारत में हिंदी दिवस का वार्षिक समारोह मनाया जाता है। इस दिन स्कूलों, कॉलेजों में विद्यार्थी हिंदी भाषा के विकास पर भाषण दे कर हिंदी संस्कृति का मान बढ़ाते है। यहाँ हम हिंदी दिवस पर भाषण साझा कर रहे है। आप हिंदी दिवस पर इन Hindi Diwas Speech को पढ़-सुना कर हिंदी भाषा का सम्मान बढ़ा सकते हैं।

Hindi Diwas Speech in Hindi

14 सितम्बर 1949 को हिंदी भाषा को देवनागरी लिपि में भारत की कार्यकारी और राजभाषा का दर्जा अधिकारिक रूप से दिया गया था और तभी से आज तक पुरे देश में 14 सितम्बर का दिन हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इस दिन का जश्न मनाने का उद्देश्य हिंदी भाषा का महत्व बताने, हिंदी भाषा को बढ़ावा देना और प्रचार करना है। इस दिन सरकारी विभागों, स्कूलों, कॉलेजों आदि में हिंदी प्रतियोगिताएँ आयोजित की जाती है।

हिंदी भाषा भारत की मातृभाषा है और इसको आगे बढ़ाना हमारा कर्तव्य है, आप इस दिन इस पर अच्छा भाषण दे कर हिंदी संस्कृति का मान बढ़ा सकते हैं। हमने हिंदी दिवस पर स्पीच/भाषण तैयार किये है जो आपकी स्पीच को और भी बेहतर बना देंगे।

यहाँ हम हिंदी दिवस पर आसान भाषण साझा कर रहे हैं जिन्हें आप अपने स्कूल, कॉलेज में हिंदी दिवस के दिन पढ़कर हिंदी भाषियों को हिंदी का महत्व बता सकते है और हिंदी भाषा का मान बढ़ा सकते हैं।

हिंदी दिवस पर भाषण, हिंदी भाषा पर भाषण - Speech on Hindi Diwas in Hindi 2022, Hindi Diwas Speech in Hindi

हैप्पी हिंदी दिवस 2022 भाषण, छात्रों और शिक्षकों के लिए हिंदी दिवस पर आसान भाषण, हिंदी दिवस भाषण 2022, हिंदी दिवस पर भाषण इन हिंदी, हिंदी दिवस स्पीच, हिंदी दिवस पर स्पीच इन हिंदी, हिंदी दिवस पर कविता, विश्व हिंदी दिवस 2022, हिंदी दिवस सन्देश, मैसेज, हिंदी दिवस का महत्व, हिंदी दिवस पर स्पीच और भाषण, हिंदी दिवस, दिवस का भाषण हिंदी में, 14 सितंबर पर भाषण, हिंदी दिवस पर जोरदार भाषण, हिंदी भाषा पर भाषण, हिंदी दिवस पर बोलने के लिए भाषण हिंदी में।

Happy Hindi Diwas 2022 Speech in Hindi Language for students and teachers, Hindi diwas bhashan 2022, hindi diwas par bhashan in hindi, Hindi diwas speech in hindi, hindi divas par speech, hindi diwas par kavita, SMS, message, importance of hindi diwas in hindi, hindi diwas ke liye speech, hindi diwas speech or bhashan, hindi diwas par bhashan hindi me, Hindi divas speech in hindi language for students and teachers 2022, Speech on hindi day 2022.

Hindi Diwas Speech 2022

सभी को नमस्कार।

इस विशेष समारोह में आप सभी का स्वागत है।

आज 14 सितंबर है। इस दिन को पूरे भारत में हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। हर साल हम इस दिन को हिंदी भाषा के प्रति सम्मान दिखाने के लिए उत्साह के साथ मनाते हैं।

हिंदी भाषा दुनिया में बोली जाने वाली मुख्य भाषाओं में से एक है। हिंदी हमारे देश की संस्कृति और मूल्यों का प्रतिबिंब है।

भारत में अधिकांश लोग हिंदी भाषी हैं, इसीलिए 14 सितंबर 1949 को भारतीय संविधान में हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया गया था।

हमें अपनी आधिकारिक भाषा हिंदी के माध्यम से ही संस्कृति का ज्ञान है। हिंदी दुनिया की प्राचीन और समृद्ध भाषा है। यह एक सरल भाषा है और किसी को भी इसे बोलने और समझने में परेशानी नहीं होती है। हिंदी भारत को एकजुट रखती है।

आज के आधुनिक युग में अंग्रेजी का भी अपना स्थान है, लेकिन इस वजह से हम अपनी मातृभाषा को नहीं भूल सकते हैं।

आज हम हिंदी में बात करते हैं, लेकिन कई बार हमारे शब्दों में अंग्रेजी शब्दों का उपयोग किया जाता है। यही कारण है कि हिंदी के कई शब्द प्रचलन से हटाए जा रहे हैं और हमें ऐसा नहीं होने देना है।

हिंदी भाषा के विकास के लिए हम सभी को एकजुट होकर काम करना होगा। हम सभी को हिंदी भाषा का अधिक से अधिक उपयोग करना होगा, तभी हम अपनी भाषा का उसके सही अर्थ में सम्मान कर सकते हैं।

आइए हम सब मिलकर यह संकल्प लें कि अपनी राजभाषा हिंदी के विकास में हम अपनी ओर से हरसंभव प्रयास करेंगे और यथासंभव हिंदी भाषा का उपयोग करेंगे।

धन्यवाद।

Speech on Hindi Diwas 14 September 2022 for Students and Teachers

माननीय प्रधानाचार्य महोदय, आदरणीय अध्यापक गण और मेरे सभी प्रिय दोस्तों को सबसे पहले हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

आज हम यहां हिंदी दिवस मनाने के लिए इकट्ठा हुए है। इस शुभ अवसर पर मैं हिंदी दिवस पर भाषण देने जा रहा हूं, अनजाने में कोई गलती हो जाए तो मुझे क्षमा कर देना।

आज 14 सितंबर हिंदी दिवस है। आज का यह दिन हम सभी भारतीयों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। क्योंकि इसी दिन 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एकमत से यह निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राष्ट्रभाषा होगी।

भारत में सन 1953 से प्रत्येक वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। सभी बड़े उत्साह के साथ अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए प्रतिवर्ष हिंदी दिवस मनाते हैं।

हिंदी भाषा को विश्व में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली तीसरी भाषा के रूप में मान्यता प्राप्त है। भारत में अधिकतर लोग इन हिंदीभासी हैं।

देश का हर एक नागरिक हिंदी भाषा को समझता और बोलता है। हिंदी एक ऐसी भाषा है जो हमारे मन को गर्व से भर देती है। हिंदी विश्व की प्राचीन और समृद्ध भाषा है।

हिंदी हिंदुस्तान की राष्ट्रभाषा ही नहीं बल्कि हिंदुस्तानियों की पहचान भी है। माना, आज के आधुनिक युग से जुड़ने के लिए अंग्रेजी भाषा सीखना भी जरूरी है लेकिन हमें अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी को नहीं भूलना चाहिए।

हमें अपने देश को विकसित देशों की सूची में शामिल कराने के लिए हिंदी को अपनाना होगा। सभी भाषाओं से ज्यादा अपनी राष्ट्रभाषा को प्राथमिकता देनी चाहिए।

हम सभी को अपनी राष्ट्रभाषा का आदर करना चाहिए। देश के एक सच्चे और अच्छे नागरिक के रूप में हमें अपनी भूमिका निभानी चाहिए और हिंदी को जन जन तक पहुंचाने की कोशिश करनी चाहिए।

हमें हिंदी भाषा को बढ़ावा देने का प्रण लेना चाहिए। हमारे मन में हमेशा हिंदी भाषा के प्रति सम्मान और आदर होना चाहिए।

अंत में, मैं अपने उन शिक्षकों को धन्यवाद कहना चाहूंगा जिन्होंने मुझे हिंदी दिवस के अवसर पर अपनी राष्ट्रभाषा हिंदी के बारे में बोलने का मौका दिया

Speech on Hindi Language

आदरणीय प्रधानाचार्य और देवतुल्य गुरुजनों को मेरा प्रणाम और मेरे सभी प्यारे सहपाठियों को मेरा नमस्कार।

जैसा की हम सभी जानते है की आज हिंदी दिवस है इसलिए आज का दिन हमारे लिए विशेष है। भारत के एक कोने से दुसरे कोने तक हिंदी समझी और बोली जाती है। हिंदी को विश्व में सबसे अधिक बोली जाने वाली तीसरी भाषा के रूप में मान्यता प्राप्त है।

इसी कारण भारतीय संविधान में हिंदी को आज ही के दिन अर्थात 14 सितंबर 1949 को राजभाषा के रूप में स्वीकार किया गया था। यह हमारे लिए गौरव की बात है।

आज के दिन हम इसे पर्व के रूप में मनाकर दुनिया में हिंदी के प्रति जागरूकता उत्पन्न करने का प्रयास करते है। यह दिन हिंदी भाषा को बढ़ावा देने और प्रसारित करने में अहम भूमिका निभाता है।

इस दिन को हिंदी कविताएँ, भाषण, कहानी और शब्दावली प्रश्नोत्तरी से जुड़े अद्धितीय कार्यक्रमों और प्रतियोगिताओं के साथ हिंदी दिवस के रूप में स्कूलों, कॉलेजों, कार्यालयों, संगठनों और अन्य उद्यमों में मनाया जाता हैं।

किसी भी देश की पहचान उसकी मातृभाषा से होती है। कोई भी देश अपनी राष्ट्रभाषा के माध्यम से ही विकास के पथ पर आगे बढ़ता है। संसार के सभी देशों ने अपने ही देश की भाषा के माध्यम से अनेक अविष्कार किए है।

लेकिन अफसोस की बात है की हिंदी आजादी के 71 साल बाद भी अपना सम्मानजनक स्थान नहीं पा सकी है। इसके सबसे बड़े दोषी है हम हिंदी भाषी।

हम बार बार यह कहते है की हमें हिंदी नहीं आती। कई माता-पिता बड़ी खुशी के साथ कहते है की मेरा बच्चा अंग्रेजी में तो फ़ास्ट है लेकिन हिंदी में थोड़ा कमजोर है। हम भारतीय है।

अगर हमें हिंदी बोलना और लिखना नहीं आता है तो हमारे लिए यह बहुत शर्म की बात है। वो इसलिए की हम अपनी ही राजभाषा को बोल नहीं सकते है।

आज हम अंग्रेजी बोलना और सीखना सम्मान समझते है। मैं आपसे यह नहीं कह रहा हूँ की अंग्रेजी मत सीखो, सीखो। सीखनी भी चाहिए लेकिन हम अपनी ही भाषा को सीखना क्यों पसंद नहीं करते?

धिक्कार है उन पर जो अपनी मातृभाषा को छोड़कर अंग्रेजी पर जोर दे रहे है। जबकि अपनी भाषा से ही संस्कृति का ज्ञान होता है। व्यक्ति सामाजिक बनता है।

अगर हम इसी तरह अपनी भाषा को नजरअंदाज करते रहे और अंग्रेजी भाषा को महत्व देते रहे तो एक दिन ऐसा भी आएगा जब आप अपने देश में खुद को पराया महसूस करेंगे।

अंत में अपने शब्दों को विराम देते हुए कहना चाहूँगा की हमें हिंदी को अपनी राष्ट्रभाषा बनाने और देश को विकसित देशों की सूची में शामिल करने के लिए हिंदी भाषा को अपनाना होगा और यह संभव तभी होगा जब विकास के मंच पर देश का हर एक व्यक्ति भागेदारी करेगा।

धन्यवाद!

छात्रों और शिक्षकों के लिए हिंदी दिवस पर भाषण - Short and Sample Speech on Hindi Diwas 2022

भाषा लोगों से अपने विचारों को व्यक्त करने और जोड़ने का एक माध्यम है। भाषा ऐसी होनी चाहिए जो सबको एक साथ जोड़ सके और ऐसी एक भाषा है हिंदी। 14 सितंबर 1949 को भारतीय संविधान द्वारा संवैधानिक तरीके से हिंदी को आधिकारिक भाषा बनाया गया और उसी दिन से हिंदी भाषा को राजभाषा के रूप में इस्तेमाल किया जाने लगा।

हिंदी भारत की राजभाषा है। यह हमारा दुर्भाग्य है की आजादी के 71 साल बाद भी हिंदी को राष्ट्रभाषा के रूप में मान्यता नहीं मिल सकी। इसकी वजह, आज माँ-बाप अपने बच्चों को अंग्रेजी सिखाना जरूरी समझते है।

वे अपने बच्चों को हिंदी स्कूलों में दाखिला दिलाने में संकोच महसूस करते है। जिससे आज की युवा पीढ़ी में अंग्रेजी भाषा सिखने और बोलने की होड़ लगी हुयी है। जिसकी वजह से वे अपनी मूल भाषा को भूल रहे है।

जिसकी वजह से हिंदी भाषा विलुप्त होती जा रही है। ऐसा ना हो इसलिए हम हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाते है और उसके बाद हिंदी को भूल जाते है। लेकिन अगर हमें हिंदी को भारत की राष्ट्रभाषा बनाना है तो हमें हिंदी का अधिक से अधिक उपयोग करना होगा।

जिस भाषा में हमने अपना पूरा जीवन बिताया उस भाषा के लिए हमारे दिल और मन में सम्मान होना चाहिए। हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिलना चाहिए। इसके लिए 70 सालों से प्रयास किया जा रहा है और हम उम्मीद करते है की यह प्रयास जल्द पूरा हो और जल्द से जल्द हिंदी को राष्ट्रभाषा का दर्जा मिलें।

इसी के साथ आप सभी को हिंदी दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं।

अंतिम शब्द,

मेरी आप सभी से प्रार्थना है की आप हिंदी को भारत की राष्ट्रभाषा बनाने का गौरव प्रदान करें। जिस भाषा में आपने अपना पूरा जीवन बिताया उस भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने की दिशा में सहयोग करके अपना कर्तव्य निभाएँ।

हमें उम्मीद है कि, आपको हिंदी दिवस पर भाषण पसंद आयेंगें। यहाँ से आप अपनी आवश्यकता और पसंद के अनुसार Hindi Diwas Speech 2022 का चयन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:

अगर आपको Hindi Diwas Speech उपयोगी लगे तो सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Comments ( 20 )

  1. What a wonderful speech
    I am supporting you
    You can do the best
    Congrats

    Reply
    • सुंदर और सरल भाषा मे लिखा गया यह भाषण हिन्दी भाषा का मह्त्व दर्शाने में बहुत ही मदद रूप हैं ! यह बहुत ही सराहनीय कदम है I आभार ⚘

      Reply
  2. Super speech

    Reply
  3. बहुत सुंदर भाषण

    Reply
  4. Bahut Aachi speech urf bhashan.

    Reply
  5. Bhot achi speech hai amazing

    Reply
  6. Is specch se mujhe bahut motivation mila Hindi bhasa ke prati

    Reply

Leave a Comment

×