बच्चों का आत्मविश्वास कम कर देती हैं ये 10 बातें - Never Say These Words to Kids

बच्चे हमारे जीवन में खुशियां लाते हैं। ऐसे में आपकी भी जिम्मेदारी बनती है कि बच्चों के जीवन में हमेशा खुशियां लाएं। बच्चों को खुश करने के लिए हम मजाक में ऐसी बातें कह देते हैं, जिनका असर उनके दिमाग पर पड़ता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि छोटे बच्चे हर बात को दिल पर ले लेते हैं। आइए जानते हैं, उन बातों के बारे में जो हमें children ही बल्कि बड़े बच्चे (लड़के या लड़की) को भी नहीं कहनी चाहिए।

Mother Scolding Sun

कई बार ऐसा होता है कि हम बच्चों को खुश करने के लिए मजाक में ऐसी बातें कह देते हैं, जिनका असर उनके दिमाग पर पड़ता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि छोटे बच्चे हर बात अपने दिमाग में रख लेते हैं। बच्चे चुटकुलों को जल्दी नहीं समझते।

ऐसे में बहुत जरूरी है कि आप बच्चों से सोच-समझकर बात करें। कुछ शब्द ऐसे होते हैं जो बच्चों को मजाक में भी नहीं कहना चाहिए। bachcho ka self-confidence kam kar deti hai ye 10 baatein

बच्चों का सेल्फ कॉन्फिडेंस डाउन करती हैं आपकी ये बातें - Never Say These Words to Kids

आपने कुछ लोगों को देखा होगा कि टैलेंट होने के बाद भी उनमें कॉन्फिडेंस की कमी होती है। इसके कई कारण हो सकते हैं, लेकिन बचपन में कुछ चीजें इसके लिए भी जिम्मेदार होती हैं। ऐसे में हर माता-पिता को कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।

1. तुम पागल हो।

ज्यादातर लोगों के पास यह डायलॉग होता है, लेकिन बच्चों से ऐसी बातें कभी न करें। ऐसा कहने से बच्चा हीन महसूस कर सकता है। इससे बच्चों का आत्मविश्वास कम हो सकता है।

Dropping Ball from 1000ft

2. तुम किसी काम के नहीं हो।

अगर आप हमेशा अपने बच्चों को किसी काम को परफेक्ट न कर पाने की वजह से ऐसा कहते हैं तो इस आदत को छोड़ दें, इससे आपका बच्चा खुद को दूसरों से कम समझने लगेगा।

3. बच्चों को गाली देना।

बच्चों को कभी भी गाली न दें। गाली-गलौज सुनने से बच्चों के मन में नकारात्मकता आती है, जिसका असर उनके मानसिक स्तर पर भी पड़ता है। बच्चा गाली देना भी सीखता है, इसलिए कभी भी बच्चों को गाली मत दो।

4. तुमसे बेहतर है भाई/बहन।

कभी भी अपने दो बच्चों की तुलना न करें। ऐसा करने से बच्चे हीन भावना का शिकार हो जाते हैं। इसके अलावा भाई-बहन के प्रति उनके मन में ईर्ष्या का भाव भी हो सकता है।

5. तुम अभी छोटे हो।

बच्चों को हमेशा कमजोर या छोटा नहीं कहा जाना चाहिए, बल्कि उन्हें सही शब्दों में समझाया जाना चाहिए कि आप अभी इस काम को करने के लिए बहुत छोटे हैं, इसलिए आपको इसके लिए बहुत मेहनत करनी होगी।

6. बच्चों का मजाक बनाना।

कोई फर्क नहीं पड़ता कि कितना बड़ा या छोटा है, यह दृष्टिकोण के साथ-साथ उम्र पर भी निर्भर करता है। उदाहरण के लिए, बिस्तर से कूदना, फुटबॉल को लात मारना छोटा हो सकता है।

लेकिन एक बच्चे के लिए ये चीजें बहुत मायने रखती हैं। आपको कभी भी बच्चे की छोटी-छोटी बातों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।

7. दूसरे बच्चों से तुलना करना।

हर बच्चा प्यारा होता है। हर किसी की अलग-अलग आदतें होती हैं लेकिन बचपन में एक आदत आम होती है यानी बच्चे जब दूसरे बच्चों को अच्छा बताते हैं तो इसे अपने दिमाग में ले लेते हैं।

ऐसे में संभावना है कि बच्चे दूसरे बच्चों से चिढ़ने लगें या वे खुद को हीन समझने लगें, इसलिए बच्चों की तुलना करने से बचें।

8. हर काम में कमी निकालना।

बचपन में किसी भी काम को बखूबी करने से ज्यादा जरूरी है कि बच्चे कोई न कोई एक्टिविटी करते रहें। ऐसा करने से बच्चे की ऊर्जा सही दिशा में जाती है।

उदाहरण के लिए, यदि आपका बच्चा पेंटिंग कर रहा है, तो उसकी पेंटिंग में दोष खोजने के बजाय उसकी पेंटिंग में अच्छी चीजों की प्रशंसा करें।

9. दूसरों के सामने बच्चे की बुराई करना।

कई माता-पिता अपने बच्चों की शिकायत दूसरे लोगों या आस-पड़ोस से करते रहते हैं। कई बार माता-पिता ऐसा मजाक के तौर पर या सिर्फ गपशप करने के इरादे से करते हैं, लेकिन ये बातें बच्चे के मन में घर कर जाती हैं और उनका आत्मविश्वास डगमगाने लगता है।

10. बच्चों को छोटी-छोटी बातों पर पीटना।

बचपन में की गई कोई भी गलती इतनी बड़ी नहीं होती कि उसे बच्चों को पीट-पीटकर समझाना चाहिए। बच्चों को हर छोटी-छोटी बात पर पीटने से वे अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं।

उन्हें हमेशा लगता है कि वे बहुत बुरे हैं और उनके माता-पिता उन्हें बिल्कुल पसंद नहीं करते हैं। साथ ही उनमें असुरक्षा की भावना इस कदर बढ़ जाती है कि वे डरने लगते हैं।

निष्कर्ष,

ऐसा कहा जाता है कि पालन-पोषण का अर्थ न केवल बच्चे को जन्म देना और उसका पालन-पोषण करना है, बल्कि पालन-पोषण का भी समाज के प्रति उत्तरदायित्व है। बच्चों की अच्छी परवरिश भी एक अच्छे समाज की नींव होती है।

आप बच्चों को बचपन में जो कुछ भी पढ़ाते हैं, वह बातें उनके दिमाग में छप जाती हैं। बचपन के अनुभव और पालन-पोषण भी बड़े होने पर उनके व्यक्तित्व के लिए जिम्मेदार होते हैं।

तो प्लीज इन बातों का पालन करे और अपने बच्चों की परवरिश सही से करे ताकि वो बड़े हो कर नाम कमा सके और अच्छे से जीवन गुजार सके। और हाँ, अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगे तो इसे अपने मित्र parents को जरूर शेयर करें।

×