New Year Giveaway | Get OPPO Reno7 Pro 5G Mobile for FREE! (
)

Kajari Teej क्या है? कजरी तीज क्यों मनाई जाती है, कहानी

क्या आप जानते है की कजरी तीज क्या है और कजरी तीज क्यों मनाते हैं? तीज क्यों मनाया जाता है? कजरी या कजली तीज को भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष के तीसरे दिन मनाया जाता है। इस दिन आसमान में छाई काली घटाओं के कारण इस त्यौहार को कजरी या कजली तीज के नाम से जाना जाता हैं। कजरी तीज की पूरी जानकारी हिंदी में, What is Kajari Teej and Why is Celebrated in Hindi?

Kajari Teej Kya Hai Aur Kyu Manai Jati Hai

कजरी तीज जिसे कजली या बड़ी तीज के रूप में भी जाना जाता है। यह भारत के तीन मुख्य तीज त्योहारों में से एक है। इसके अलावा हरियाली तीज और हरतालिका तीज भी हैं।

हरियाली तीज के 15 दिन बाद Kajari teej का जश्न उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह आमतौर पर रक्षा बंधन के उत्सव के तीन दिन बाद और कृष्ण जन्माष्टमी से पांच दिन पहले आता हैं।

कई जगहों पर कजरी तीज को Satudi teej के नाम से भी जाना जाता है। कजरी तीज का त्यौहार मुख्य रूप से महिलाओं का पर्व हैं। सुहागन महिलाओं के लिए कजरी तीज भी हरियाली तीज और हरतालिका तीज की तरह प्रमुख त्यौहार हैं।

राजस्थान और विशेष रूप से बूंदी के छोटे शहर में कजरी तीज के दौरान बड़ी प्रक्रियाएं की जाती है। बूंदी में इस त्यौहार के दौरान विदेशों के पर्यटक भी आकर्षित होते हैं।

Kajari Teej Kya Hai Aur Kajari Teej Kyu Manate Hai

मगर, क्या आपको पता है की कजरी तीज कब है, कजरी तीज क्यों मनाई जाती है या कजरी तीज कैसे मनाते है? Kajari teej kab hai, Kajari teej kyo manate hai, Kajari teej kaise manate hai, Kajli teej kya hai, Kajari teej kyo manayi jati hai, Kajari teej 2022 me kab ki hai, Kajari teej date 2022 in hindi, Kajari teej ki kahani, Kajari teej kite tarikh ko hai, Badi teej kya hai, Kajri teej kya hai. Kajari teej in hindi.

कजरी तीज क्या है?

काजरी तीज एक हिंदू उत्सव हैं। कजरी तीज भारत के तीन मुख्य तीज त्योहारों में से एक हैं। कजरी तीज के दिन देवी पार्वती की पूजा की जाती है। Kajari teej के अवसर पर देवी पार्वती और भगवान् शिव को खुश करने के लिए महिलाएं उपवास करती हैं।

कजरी व्रत का निरीक्षण करके महिलाएं अपने पति के लंबे जीवन और कल्याण के लिए प्रार्थना करती हैं।

अविवाहित लड़कियां भी इस दिन अच्छा पति पाने के लिए व्रत रखती हैं। कजरी तीज का दिन विवाहित महिलाओं के जीवन में असाधारण रूप से अनुकूल माना जाता हैं। काजरी तीज मुख्य रूप से महिलाओं का त्यौहार हैं।

कजरी तीज के दिन को हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, लंबी अवधि के बाद देवी पार्वती और भगवान् शिव के बीच पुनर्मिलन का दिन माना जाता हैं।

2022 में कजरी तीज कब है? Kajari Teej Kab Hai 2022

कजरी तीज या kajli teej को भाद्रपद के चंद्र महीने के दौरान कृष्णा पक्ष के तीसरे दिन मनाया जाता हैं। ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार यह दिन जुलाई या अगस्त के महीने में पड़ता हैं।

इस साल कजरी तीज रविवार 18 अगस्त 2022 को मनाई जाएगी।

  • 18 August, 2022 को रात 20:41:26 से तृतीया आरम्भ
  • 19 August, 2022 को रात 21:40:13 पर तृतीया सामाप्त

कजरी तीज कैसे मनाते है?

कजरी तीज के दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयू के लिए व्रत रखती है और अविवाहित लड़कियां इस पर्व पर अच्छा वर पाने के लिए व्रत रखती हैं। इस दिन जौ, चने, चावल और गेंहूं के सत्तू बनाये जाते है और उसमें घी और मेवा मिलाकर कई प्रकार के भोजन बनाते हैं। चंद्रमा की पूजा करने के बाद उपवास तोड़ते हैं।

इसके अलावा, कजरी तीज के दिन गायों की पूजा की जाती है। साथ ही इस दिन घर में झूले लगाते है और महिलाएं इकठ्ठा होकर नाचती है और गाने गाती हैं। कजरी गाने इस उत्सव का एक अभिन्न हिस्सा हैं। Kajri teej पर नीम की पूजा भी की जाती है। उसके बाद चाँद को बलिदान देने की परंपरा हैं।

कजरी तीज का महत्त्व

कड़ी गर्मी के बाद मानसून का स्वागत करने के लिए लोगों द्वारा कजरी तीज मनाई जाती है। कजरी तीज पूरे साल मनाए जाने वाले तीन तीज त्योहारों में से एक है। अखा और हरियाली तीज की तरह भक्त कजरी तीज के लिए विशेष तयारी करते हैं।

इस दिन देवी पारवती की पूजा करना शुभ माना जाता है। जो महिलाएं कजरी तीज पर देवी पार्वती की पूजा करती है उन्हें अपने पति के साथ सम्मानित संबंध होने से आशीर्वाद मिलता है।

किवंदती यह है की 108 जन्म लेने के बाद देवी पार्वती भगवान शिव से शादी करने में सफल हुई। इस दिन को निस्वार्थ प्रेम के सम्मान के रूप में मनाया जाता है। यह निस्वार्थ भक्ति थी जिसने भगवान् शिव को अंततः देवी पार्वती को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार करने का नेतृत्व किया।

कजरी तीज क्यों मनाई जाती है?

कजरी तीज की कहानी:

कजरी तीज से जुड़ी कई कहानियां है जिन्हें कजरी तीज मनाने का कारण माना जाता हैं।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, कजली मध्य भारत में स्थित एक घने जंगल का नाम था जंगल के आस-पास का क्षेत्र राजा दादूरई द्वारा शासित था। वहाँ रहने वाले लोग अपने स्थान कजली के नाम पर गाने गाते थे ताकि उनकी जगह का नाम लोकप्रिय हो सकें।

कुछ समय पश्चात् राजा दादूरई का निधन हो गया, उनकी पत्नी रानी नागमती ने खुद को सती प्रथा में अर्पित कर दिया। इसके दुःख में कजली नामक जगह के लोगों ने रानी नागमती को सम्मानित करने के लिए राग कजरी मनाना शुरू कर दिया।

इसके अलावा, इस दिन को देवी पार्वती को सम्मानित करने और उनकी पूजा करने के लिए मनाया जाता है क्योंकि यह तीज अपने पति के लिए एक महिला (देवी पार्वती) की भक्ति और समर्पण को दर्शाती हैं।

देवी पार्वती भगवान् शिव से शादी करने की इच्छुक थी। शिव ने पार्वती से उनकी भक्ति साबित करने के लिए कहा। पार्वती ने शिव द्वारा स्वीकार करने से पहले, 108 साल एक तपस्या करके अपनी भक्ति साबित की।

भगवन शिव और पार्वती का दिव्य संघ भाद्रपद महीने के कृष्णा पक्ष के दौरान हुआ था। यही दिन कजरी तीज के रूप में जाना जाने लगा। इसलिए बड़ी तीज या kajari teej के दिन देवी पार्वती की पूजा करने के लिए बहुत शुभ माना जाता हैं।

इसलिए कजरी तीज मनाई जाती है। कजरी तीज मनाने की यह दो मुख्य कहानियां है जिनसे कजरी तीज की उत्पत्ति हुई। अब आप जान चुके है की kajari teej क्यों मनाते हैं।

आशा करता हूँ आपको यहाँ कजरी तीज के बारे में अच्छा जानकारी मिलेगी। यदि आपको इस पोस्ट की जानकारी उपयोगी लगे तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Comments ( 3 )

  1. Mujhe teej ke baare me to pata tha lekin kajari teej ke baare me nahi pata tha lekin aaj is article ko padh kar pata lag gya thanks for sharing jamshed bhai.

    Reply
  2. bahut jabardast jankari jamshed . thank you for sharing .

    Reply
  3. iske baare me hame bhi jankari nahi tha. lekin, aaj aapki post me jaan chuka hu. thanks sir.. is best articles ke liye..

    Reply

Leave a Comment

×