हिंदी दिवस पर निबंध - Hindi Diwas Essay in Hindi 2022

भारत में हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन 14 सितंबर 1949 को भारत की संविधान सभा ने हिंदी भाषा को आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया था। तब से, हिंदी भाषा को सम्मान देने हेतु हिंदी दिवस मनाया जाता है। यहाँ हमने छात्रों के लिए हिंदी दिवस पर निबंध उपलब्ध कराए है। आप अपनी पसंद के अनुसार किसी भी हिंदी दिवस पर निबंध का चयन कर सकते हैं। Hindi Diwas Par Nibandh, Essay on Hindi Diwas Essay in Hindi for Students 2022.

Hindi Diwas Essay in Hindi

हिंदी दिवस के दिन हिंदी भाषा के महत्व पर जोर दिया जाता है जो देश में अपना महत्व खोते जा रही है। हिंदी भाषा के महत्व को दर्शाने के लिए हिंदी दिवस समारोह आयोजित किए जाते हैं जिनमें भाषण, निबंध लेखन, कविता-पाठ, गीत गायन, नृत्य, छात्रों द्वारा नारे आदि गतिविधियां शामिल हैं।

अगर आपको हिंदी दिवस पर भाषण चाहिए तो नीचे वाले आर्टिकल में जाएं। इस आर्टिकल में हमने छात्रों और शिक्षकों के लिए हिंदी दिवस स्पीच इन हिंदी उपलब्ध किए हैं जिन्हें आप हिंदी दिवस के अवसर पर बोलकर हिंदी भाषा का सम्मान कर सकते हैं।

इस पोस्ट में हम हिंदी दिवस निबंध लेखन प्रतियोगिता में भाग लेने वाले विद्यार्थियों के लिए हिंदी दिवस पर आसान निबंध लेकर आए हैं। यहां से, छात्र अपनी पसंद और जरूरत के अनुकूल हिंदी दिवस निबंध का इस्तेमाल कर सकते हैं।

हिंदी दिवस पर निबंध - Hindi Diwas Essay in Hindi 2022, Essay on Hindi Diwas in Hindi

हिंदी दिवस की शुभकामनाएं 2022, हिंदी दिवस निबंध हिंदी में, हिंदी दिवस पर आसान और सरल निबंध, छात्रों के लिए हिंदी दिवस पर निबंध, हिंदी भाषा पर निबंध, हिंदी के महत्व पर निबंध, विद्यार्थियों के लिए हिंदी दिवस पर निबंध, हिंदी दिवस 2022 निबंध इन हिंदी, हिंदी दिवस की जानकारी, हिंदी दिवस का महत्व बताते निबंध।

Happy hindi diwas 2022 essay in hindi, Hindi diwas essay in hindi language for students, Short and simple/sample essay on hindi diwas in hindi, Hindi divas par nibandh, Hindi bhasha par nibandh, Hindi diwas speech and essay in hindi, Hindi diwas par nibandh hindi mein, Hindi diwas jankari in hindi, Hindi diwas ka mahatva 2022.

विद्यार्थियों के लिए हिंदी दिवस पर निबंध - 14 September Hindi Diwas Nibandh in Hindi

हिंदी दिवस भारत में हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है। हिंदी भाषा विश्व में सबसे ज्यादा बोले जाने वाली तीसरी भाषा है।

भारत की आजादी के बाद 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एकमत से यह निर्णय लिया कि हिंदी की खड़ी बोली ही भारत की राजभाषा होगी।

इसी निर्णय को महत्व देने के लिए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर सन 1953 से पूरे भारतवर्ष में प्रत्येक साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

तब से धीरे धीरे हिंदी भाषा का प्रचलन बढ़ा और इस भाषा ने राष्ट्रभाषा का रूप ले लिया। अब हिंदी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी काफी प्रचलित है।

आज विश्व के कोने-कोने से विद्यार्थी हमारी भाषा और संस्कृति को जानने के लिए हमारे देश की तरफ रुख कर रहे हैं। लेकिन हम खुद ही हिंदी भाषा का सम्मान नहीं करते हैं।

हम अंग्रेजी भाषा के गुलाम बनते जा रहे हैं। जिस व्यक्ति को अंग्रेजी नहीं आती उसे गवार कहकर पुकारा जाता है। आज स्कूलों में भी अन्य भाषाओं को सिखाने में ज्यादा महत्व दिया जाता है।

आज हर एक हिंदुस्तानी को यह समझने की जरूरत है कि हिंदी से हिंदुस्तान है। जबकि हम हिंदी भाषा की ही आलोचना कर रहे हैं।

जो लोग हिंदी भाषा में बात करते हैं हम उन्हें ऐसे देखते हैं जैसे उन्हें कुछ आता नहीं है। हम उन्हें गवार समझते हैं और उनसे कोई वास्ता नहीं रखते हैं।

हम आपसे यह कहना चाहते हैं कि अपनी भाषा को छोड़कर दूसरी भाषा को महत्व देना ठीक नहीं है। ऐसा नहीं है की जो अंग्रेजी बोलते हैं वह कोई महान व्यक्ति हैं, अंग्रेजी भी एक भाषा है जैसे हिंदी भाषा है।

हिंदी ही हमारे देश का गौरव है और हमारा मान है। इसलिए प्रत्येक हिंदुस्तानी को ना केवल हिंदी आनी चाहिए बल्कि उसे हिंदी का सम्मान भी करना चाहिए।

अपनी भाषा को सम्मानित करने के लिए महान उत्साह के साथ हिंदी दिवस मनाएं। कुछ स्पेशल करें, जिससे कि लोग हिंदी का उपयोग अधिक से अधिक करने के लिए प्रेरित होवें।

छात्रों के लिए हिंदी दिवस पर निबंध - Hindi Diwas Essay in Hindi for Students 2022

हमारे रोजमर्रा के जीवन में कई महत्वपूर्ण दिवस आते हैं। ऐसा ही एक दिवस के रूप में हम 14 सितंबर को मनाते हैं। यह दिन हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हमारा भारत देश विभिन्न संस्कृतियों का मिश्रण है। इसके परिणामस्वरूप भारत एक विभिन्न भाषाओं का देश भी बन गया है। इन सभी भाषाओं में हिंदी को मातृभाषा का दर्जा दिया गया है।

हिंदी भाषा संसार में सर्वाधिक बोले जाने वाली भाषाओं में से एक है। हिंदी भाषा को सम्मान देने के लिए हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस और राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है।

आजादी के बाद 14 सितंबर 1949 के दिन ही हिंदी भाषा को मातृभाषा का गौरव प्राप्त हुआ। 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का निर्णय 1953 को लिया गया। तब से लेकर आज तक हम हिंदी दिवस मनाते आ रहे हैं।

हिंदी के प्रति जागरूकता बढ़ाने में हिंदी दिवस का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान है। हिंदी दिवस यानी 14 सितंबर के दिन स्कूल के बच्चों को मातृभाषा का महत्व बताने के लिए प्रोजेक्ट दिए जाते हैं। विद्यार्थी वाद विवाद, भाषण, कविता, निबंध आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है।

लेकिन दुख की बात यह है कि आज की युवा पीढ़ी अपने जीवन की व्यस्तता में इतना खो गयी है कि उसे यह दिन याद तक नहीं रहता। हम सभी जानते हैं की सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा को वह सम्मान प्राप्त नहीं है जो उसे मिलना चाहिए।

इसका कारण है अपनी भाषा को तुच्छ समझना। इसके सबसे बड़े दोषी हम हिंदी भाषी हैं। जब तक हम खुद अपनी मातृभाषा का सम्मान नहीं करेंगे तब तक हम इसे सम्मान नहीं दिला पायेंगे।

अपनी भाषा के प्रति हीन भावना रखना देश के साथ गद्दारी के समान है। आओ, हम सब भारतवासी आज के दिन हिंदी दिवस पर यह प्रण करें कि हम हिंदी भाषा को भारत की सर्वश्रेष्ठ भाषा मानकर इसे उचित सम्मान प्रदान करें।

किसी भी देश की मातृभाषा उसकी विरासत होती है। जिस तरह हम तिरंगे का सम्मान करते हैं उसी तरह हमें अपनी मातृभाषा का सम्मान भी करना चाहिए।

जय हिंद। धन्यवाद।

हिंदी दिवस पर निबंध - Essay on Hindi Diwas in Hindi 2022

हर साल 14 सितंबर को पूरे भारत में हिंदी दिवस मनाया जाता है। हिंदी भाषा के प्रति सम्मान प्रकट करने हेतु हर साल हम इस दिन को उत्साह के साथ मनाते हैं।

हिंदी भाषा विश्व में बोली जाने वाली मुख्य भाषाओं में से एक है। हिंदी हमारे देश की संस्कृति और संस्कारों का प्रतिबिंब है।

भारत देश में अधिकतर लोग हिंदीभाषी है। इसी कारण 14 सितंबर 1949 को भारतीय संविधान में हिंदी को राजभाषा के रूप में स्वीकार किया गया।

हमारी राजभाषा हिंदी से ही हमें संस्कृति का ज्ञान होता है। हिंदी विश्व की प्राचीन और समृद्ध भाषा है। यह एक सरल भाषा है और किसी को भी इसे बोलने और समझने में परेशानी नहीं होती। यह भाषा पूरे भारत को एक बनाए रखती है।

हिंदी दिवस मनाना, हमारी राजभाषा के साथ-साथ हमारी संस्कृति पर जोर देने के लिए एक महान कदम है। यह दिवस हमें हमारी संस्कृति और मूल्यों से बांधे रखता है।

हर साल यह दिन हमें हमारी वास्तविक पहचान याद दिलाता है। आज के आधुनिक युग में अंग्रेजी भाषा का भी अपना स्थान है पर इस वजह से हम अपनी मातृभाषा को भुला नहीं सकते है।

आज लोग हिंदी में बात तो करते हैं लेकिन कई बार उनकी बातों में अंग्रेजी शब्दों का प्रयोग होता है। लोगों को अंग्रेजी भाषा में बात करने से अधिक गर्व महसूस होता है।

इसी वजह से हिंदी के कई शब्द प्रचलन से हट रहे है और हम हमारी मातृभाषा हिंदी को भूलते जा रहे हैं। हमें ऐसा हरगिज़ नहीं होने देना है।

हिंदी भाषा के विकास के लिए सभी को एकजुट होकर प्रयास करने होंगे। सभी को हिंदी भाषा का अधिक से अधिक उपयोग करना होगा। तभी हम अपनी भाषा का सही अर्थ में सम्मान कर सकते हैं।

धन्यवाद।

निष्कर्ष,

हमें उम्मीद है कि, हमारे द्वारा उपलब्ध कराए गए हिंदी दिवस पर निबंध छात्रों को पसंद आयेंगें। यहां दिए गए निबंध हिंदी दिवस के अवसर पर हिंदी दिवस निबंध लेखन प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले छात्रों के लिए उपयोगी साबित होंगे।

अगर आपको हिंदी दिवस पर शायरी या कविता चाहिए तो नीचे वाले आर्टिकल में जाएं। इस आर्टिकल में आपको हिंदी भाषा के सम्मान में शायरियां मिल जाएंगी।

यह भी पढ़ें:-

अगर आपको हिंदी दिवस पर निबंध पसंद आए तो सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Leave a Comment

×