गुरु नानक जयंती 2022 - Guru Nanak Jayanti in Hindi

गुरु नानक जयंती भारत में सिख समुदाय के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, साथ ही दुनिया भर में भी। इस साल Guru Nanak Jayanti 30 नवम्बर को मनाई जाएगी। यह गुरु नानक देव की शिक्षाओं को याद करने के लिए मनाया जाता है। वह सिख धर्म के लोगों के पहले गुरु और एक महान आध्यात्मिक शिक्षक थे। यह अक्टूबर से नवंबर के महीने में पड़ता है।

Guru Nanak Jayanti essay in hindi

गुरु नानक जयंती भारत के साथ-साथ दुनिया भर में सबसे पवित्र और महत्वपूर्ण त्योहार है। गुरु नानक देव का जन्मदिन ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार अक्टूबर-नवंबर के महीने में पूर्णिमा या कार्तिक पूर्णिमा को मनाया जाता है।

उनका जन्म वर्ष 1469 में पाकिस्तान में हुआ था। गुरु नानक देव की माता का नाम माता त्रिपाठी था और उनके पिता का नाम कल्याण चंद दास बेदी था। गुरु नानक ने 24 सितंबर 1487 को पंजाब के बटाला शहर में माता सुलखनी से शादी की।

गुरु नानक जयंती का दूसरा नाम गुरपुरब है। यह सबसे पवित्र त्यौहार है। सिख लोग इसका बहुत सम्मान करते हैं। गुरु नानक देव सिख लोगों के लिए पवित्र ग्रंथ है। गुरु नानक जयंती को सिखों द्वारा बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है।

गुरु नानक जयंती पर निबंध - Guru Nanak Jayanti Essay in Hindi

इस त्योहार पर लोग अपने घरों और व्यापारिक दुकानों को सजाते हैं। भक्त इस दिन को गुरुद्वारा सजाकर मनाते हैं। साथ ही, वे उन सभी को भोजन परोसते हैं जो गुरुद्वारों में जाते हैं। गुरु नानक देव सिख धर्म के संस्थापक थे और एक धार्मिक शिक्षक और आध्यात्मिक उपचारक थे।

उनकी शिक्षा और जीवन जीने का तरीका पूरी दुनिया में प्रेरणादायक है। भारत में, सिख समुदाय को चौथी सबसे बड़ी धार्मिक आबादी माना जाता है। साथ ही, यह दुनिया में आने वाली नौवीं सबसे बड़ी आबादी है।

इस प्रकार, गुरु नानक जयंती एक ऐसा त्योहार है जो दुनिया भर में व्यापक रूप से मनाया जाता है। यह लगातार तीन दिनों तक मनाया जाता है। सिख लोग इसे बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं। Guru Nanak Jayanti भारत और विदेशों में सिखों द्वारा मनाया जाने वाला एक प्रमुख त्योहार है।

यह सिखों के पहले गुरु श्री गुरु नानक देव के जन्मदिन को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है। गुरु नानक जयंती कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है। गुरु नानक जयंती के दिन, सिख लोग नए कपड़े पहनते हैं और गुरुद्वारों में जाते हैं।

उत्सव की शुरुआत सुबह के जुलूस से होती है जिसे 'प्रभात फेरी' के नाम से जाना जाता है। गुरु नानक जयंती का त्योहार नानकशाही कैलेंडर के अनुसार ’कटक’ महीने में आता है।

इस दिन सिख धर्म के लोग गुरुद्वारों में प्रार्थना करते हैं और गुरु नानक देव को श्रद्धांजलि देते हैं। वे सिखों की पवित्र पुस्तक को गुरुद्वारों में लगातार पढ़ते और सुनाते हैं।

गुरु नानक देव का जन्म 15 अप्रैल 1469 को पाकिस्तान के लाहौर के पास तलवंडी में हुआ था। चार साल के परिवार में उनकी एक ’बेबे नानकी’ नाम की बड़ी बहन थी। जब गुरु नानक 16 साल के थे, तब उन्होंने दौलत खान लोदी के अधीन काम करना शुरू किया।

गुरु नानक देव के जन्म से पहले, भक्तों द्वारा पाठ और अखंड प्रदर्शन किया जाता है। गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ दो दिनों तक बिना रुके किया जाता है। गुरु नानक देव की पूर्व संध्या से, जुलूस को 'नगर कीर्तन' कहा जाता है।

गुरु नानक देव को सिख धर्म की स्थापना का श्रेय दिया जाता है क्योंकि वे सिखों के पहले गुरु थे। यह प्रत्येक सिख के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण दिन है। गुरु नानक जयंती पर सिख धर्म के लोग अपने घरों को दीयों और मोमबत्तियों से सजाते हैं।

वह वास्तव में भगवान के अस्तित्व को मानते थे। उनकी विचारधाराएँ और शिक्षाएं सिखों की पवित्र पुस्तकों में भरी पड़ी हैं। Guru Nanak Jayanti गुरु नानक देव जी की जयंती के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

गुरु नानक एक धार्मिक शिक्षक थे, एक आध्यात्मिक उपचारक जिन्होंने 15 वीं शताब्दी में सिख धर्म की स्थापना की थी। गुरु नानक ने भगवान की एकता और हर किसी के जीवन में एक गुरु के महत्व पर जोर दिया और मानव सेवा करके मानवता का संदेश दिया।

गुरु नानक जयंती (Guru Nanak Jayanti) हर साल सिख समुदाय के लोगों द्वारा श्रद्धा और खुशी के साथ मनाई जाती है। गुरु नानक जयंती दुनिया भर में लोगों को एकता, सच्चाई, शांति और सद्भाव के ज्ञान का संदेश देने के लिए प्रेरित करती है।

सिख लोग इस दिन शांति और खुशी के लिए प्रार्थना करते हैं। गुरु नानक देव जयंती सिख धर्म के अनुयायियों और भक्तों को एक आशा की किरण देती है।

यह भी पढ़ें:

गुरु नानक देव का निधन 22 सितंबर 1539 को 'करतारपुर' में हुआ था।

Avatar for Jamshed Khan

मुझे लिखने का बहुत शौक है। इस ब्लॉग पर मैं एजुकेशन और फेस्टिवल से रिलेटेड आर्टिकल लिखता हूँ।

Comments ( 1 )

  1. गुरु नानक देव जी सही मायने में सामाजिक एकता, सद्भावना के मसीहा थे। गुरु नानक देव की वाणी अनंतकाल तक समाज को मार्गदर्शन करती रहेगी।

    Reply

Leave a Comment

×