क्या है नितिन गडकरी का नया फॉर्मूला, जिससे 15 रुपये लीटर मिलेगा पेट्रोल ?

हाल ही में गडकरी ने कहा कि फिलहाल ईंधन आयात 16 लाख करोड़ रुपये का है, अगर इथेनॉल के इस्तेमाल से इसे कम किया जा सके तो यह पैसा विदेश भेजे जाने की बजाय किसानों के घर जाएगा. किसान भी खुशहाल होंगे और पेट्रोल की कीमत 15 रुपए लीटर हो जाएगी। तो आईए जानते है नितिन गडकरी का वो नया फॉर्मूला क्या है, जिससे पेट्रोल 15 रुपये लीटर हो जाएगा ?

Petrol 15 rupee litre formula

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ऐसा बयान दिया है, जिसे सुनकर लोग हैरान भी हुए और खुश भी। राजस्थान के प्रतापगढ़ में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि अगर 60 फीसदी इथेनॉल और 40 फीसदी बिजली का इस्तेमाल किया जाए तो पेट्रोल 15 रुपये प्रति लीटर मिल सकता है। इससे प्रदूषण भी ख़त्म होगा और ईंधन आयात भी कम किया जा सकेगा।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको यही बताने वाले है कि कैसे पेट्रोल कि कीमत इतना कम हो जाएंगी। पूरी जानकारी के लिए आर्टिकल को आखिर लाइन तक पढ़िएगा।

नितिन गडकरी का नया फॉर्मूला

नितिन गडकरी ने कहा,

किसान अब सिर्फ अन्नदाता ही नहीं, बल्कि ऊर्जा प्रदाता भी बनेगा, मैं अगस्त माह में टोयोटा कंपनी की गाड़ियां लॉन्च कर रहा हूं। ये सभी गाड़ियां किसानों द्वारा तैयार इथेनॉल से चलेंगी। 60 फीसदी इथेनॉल और 40 फीसदी बिजली, अगर इसका औसत निकाला जाए तो पेट्रोल की कीमत 15 रुपये प्रति लीटर होगी।

उन्होंने कहा कि जब इथेनॉल से गाड़ियां चलेंगी तो लागत कम होने से जनता को भी फायदा होगा और किसानों को भी फायदा होगा, साथ ही देश को भी फायदा होगा। फिलहाल 16 लाख करोड़ रुपये का ईंधन आयात होता है।

अगर इथेनॉल के इस्तेमाल से इसे कम किया जा सके तो ये पैसा विदेश भेजने की बजाय किसानों के घर जाएगा। किसान भी खुशहाल होंगे।

दरअसल, अगले महीने नितिन गडकरी टोयोटा कंपनी की इनोवा कार लॉन्च करने जा रहे हैं, जिसमें 100 प्रतिशत फ्लेक्स फ्यूल इंजन होगा और यह 100 प्रतिशत इथेनॉल पर चलेगी।

इथेनॉल गन्ने से बनता है और भारत में लाखों गन्ना किसान हैं, जिनकी आजीविका इसी से है। उन्होंने कहा कि आज किसान इथेनॉल और सौर ऊर्जा का उत्पादन कर न केवल अन्नदाता बल्कि ऊर्जा प्रदाता भी हैं।

केंद्रीय मंत्री के मुताबिक, आने वाले दिनों में देश में दोपहिया से लेकर सभी तरह के वाहन इथेनॉल से चलेंगे।

5 साल में पेट्रोल-डीजल को कह देंगे अलविदा!

आपको बता दें, नितिन गडकरी ने राजस्थान के प्रतापगढ़ में 5600 करोड़ रुपये की 11 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का उद्घाटन और निर्माण कार्य शुरू करते हुए कई बड़ी घोषणाएं कीं।

उन्होंने बताया कि देश में वाहन उद्योग का कारोबार करीब 7.55 लाख करोड़ रुपये है।

नितिन गडकरी का कहना है कि सरकार ने आने वाले दिनों में पेट्रोल और डीजल पर निर्भरता कम करने की योजना तैयार की है।

नितिन गडकरी कई बार कह चुके हैं कि उन्होंने 5 साल में पेट्रोल-डीजल का इस्तेमाल खत्म करने की पहल की है, जिस पर तेजी से काम चल रहा है।

इसलिए फ्लेक्सी इंजन के साथ-साथ इलेक्ट्रिक कारों के लिए बुनियादी ढांचे के विकास पर जोर दिया जा रहा है। इसी कड़ी में नितिन गडकरी ने ऑटोमोबाइल कंपनियों को फ्लेक्स फ्यूल कम्पैटिबल इंजन बनाने का निर्देश दिया है।

अगर सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले कुछ सालों में पेट्रोल और इथेनॉल के मिश्रण से चलने वाली गाड़ियां भारतीय सड़कों पर दौड़ने लगेंगी।

In: Categories News

Leave a Comment

I need help with ...